पर्यावरण बचाने के लिए विचार-विमर्श करने भारत पहुंचे COP26 के अध्यक्ष

शिखर सम्मेलन में अब 100 दिनों से भी कम समय बचा है, ऐसे में यूके ने सभी G-20 देशों से नेट जीरो पर हस्ताक्षर करने और अगले 10 वर्षों में उत्सर्जन में कटौती करने की स्पष्ट योजना तैयार करने का आग्रह किया है।

पर्यावरण बचाने के लिए विचार-विमर्श करने भारत पहुंचे COP26 के अध्यक्ष

संयुक्त राष्ट्र के 26वें जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP26) से पहले COP26 के अध्यक्ष आलोक शर्मा तीन दिवसीय यात्रा के लिए नई दिल्ली पहुंचे, ताकि शिखर सम्मेलन को सफल बनाने में भारत की भूमिका पर चर्चा की जा सके। सम्मेलन इस साल नवंबर में ब्रिटेन के ग्लासगो में होगा। आलोक शर्मा के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव और बिजली एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह से मुलाकात करने की उम्मीद है।

उन्होंने पहले दिन बैठक की शुरुआत करते हुए ट्वीट किया, “भारत में नागरिक समाज समूहों और व्यवसायों से मिलने का पहला दिन अच्छा है। #ग्रीनग्रोथ और भारत की जलवायु महत्वाकांक्षा #COP26 के अवसरों पर चर्चा की।" इस बार सम्मेलन में भारत की भूमिका का विश्लेषण होने की संभावना है। अपनी महत्वाकांक्षी घरेलू योजनाओं की रूपरेखा के माध्यम से और पेरिस समझौते के तहत अपने 2030 उत्सर्जन लक्ष्यों को अद्यतन करने वाले देशों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है।