AAPI विक्ट्री फंड के संस्थापक-अध्यक्ष वरुण क्यों छोड़ेंगे अपना पद?

निकोर के कार्यकाल के दौरान एएपीआई विक्ट्री फंड ने पहली बार एएपीआई डेमोक्रेटिक प्रेसिडेंशियल फोरम की मेजबानी की, दर्जनों डेमोक्रेटिक उम्मीदवारों के लिए लाखों डॉलर का समर्थन और धन जुटाया और साल 2020 के चुनावों में इतिहास में सबसे बड़े प्रगतिशील एएपीआई चुनावी मतदान का नेतृत्व किया।

AAPI विक्ट्री फंड के संस्थापक-अध्यक्ष वरुण क्यों छोड़ेंगे अपना पद?
भारतीय अमेरिकी नेता निकोर ने साल 2017 में एएपीआई विक्ट्री एलायंस की स्थापना के बाद से दोनों संगठनों- एएपीआई विक्ट्री एलायंस और एएपीआई विक्ट्री फंड का नेतृत्व किया।

अमेरिकी संस्था एएपीआई (Asian American and Pacific Islanders) विक्ट्री फंड के संस्थापक अध्यक्ष वरुण निकोर जल्द ही अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। बताया जा रहा है कि अपने राष्ट्रीय और राज्य-आधारित एएपीआई राजनीतिक वकालत अभियानों पर ध्यान केंद्रित करने और पहली बार एएपीआई 'थिंक टैंक' बनाने के उद्देश्य से वरुण एएपीआई विक्ट्री फंड को छोड़कर पूर्ण रूप से एएपीआई विक्ट्री एलायंस से जुड़ेंगे।

एएपीआई विक्ट्री फंड एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीप समूह के योग्य मतदाताओं को जुटाने और उनसे वोट डलवाने की दिशा में काम करता है।

निकोर के कार्यकाल के दौरान एएपीआई विक्ट्री फंड ने पहली बार एएपीआई डेमोक्रेटिक प्रेसिडेंशियल फोरम की मेजबानी की, दर्जनों डेमोक्रेटिक उम्मीदवारों के लिए लाखों डॉलर का समर्थन और धन जुटाया और साल 2020 के चुनावों में इतिहास में सबसे बड़े प्रगतिशील एएपीआई चुनावी मतदान का नेतृत्व किया।