सिंगापुर में अर्जुन को क्यों मिली आठ साल की जेल और 24 बेंत लगाने की सजा

अदालत को बताया गया कि भारतीय मूल के अन्य पीड़ित व्यक्ति डी सेल्वाराजा (30) के साथ अर्जुन का पहले भी विवाद रहा है। अर्जुन की ओर से दिए गए हथियारों से एक समूह ने सेल्वाराजा पर हमला किया था और उन्हें घायल कर दिया था।

सिंगापुर में अर्जुन को क्यों मिली आठ साल की जेल और 24 बेंत लगाने की सजा

सिंगापुर की एक अदालत ने भारतीय मूल के एक शख्स को किसी व्यक्ति पर हमला करने के उद्देश्य से हथियारों की आपूर्ति करने के जुर्म में आठ वर्ष की करेक्टिव ट्रेनिंग (सुधारात्मक प्रशिक्षण) और 24 बेंत लगाने की सजा सुनाई है। अदालत ने 26 वर्षीय इस व्यक्ति को यह सजा एक डंडा और तलवार समेत हथियारों की आपूर्ति करने के लिए सुनाई। इन हथियारों का इस्तेमाल वर्ष 2018 में हुई हिंसा की एक घटना में किया गया था।

'टुडे' अखबार की सोमवार की एक खबर के अनुसार अर्जुन रेतनावेलु को छूट के दौरान फिर से अपराध करने के लिए 360 दिनों की जेल की अतिरिक्त भी सजा सुनाई गई। करेक्टिव ट्रेनिंग असल में कारावास का ही एक गंभीर रूप है। अपराधी को यह सजा तब सुनाई जाती है जब अदालत को लगता है कि अपराधी को एक अवधि के लिए सुधारात्मक चरित्र के प्रशिक्षण की जरूरत है। सामान्य तौर पर करेक्टिव ट्रेनिंग की अवधि पांच से 14 साल के बीच रहती है।