टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र से हाथापाई, लेकिन दोषी कौन?

भारतीय-अमेरिकी छात्र की पहचान शान प्रीतमणि के रूप में हुई है। शान अपनी सीट पर बैठा हुआ था जब अज्ञात छात्र ने उससे सीट छोड़ने के लिए लिए कहा। शान की मां सोनिका कुकरेजा की ओर से शुरू किए गए ऑनलाइन अभियान के अनुसार स्कूल भी इसमें शान को ही दोषी ठहरा रहा है।

टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र से हाथापाई, लेकिन दोषी कौन?

टेक्सास से एक  वीडियो सामने आया है जिसमें एक भारतीय-अमेरिकी छात्र अपनी ही एक श्वेत सहपाठी की ओर से अभद्रता और हिंसा का सामना करते हुए देखा जा सकता है। कॉपेल इंडिपेंडेंट स्कूल डिस्ट्रिक्ट (Coppell ISD) के छात्रों की ओर से रिकॉर्ड और शेयर किए गए इस वीडियो में दो छात्र मौखिक लड़ाई के बाद आपस में भिड़ते हुए दिखाई देते हैं।

इस मामले में स्कूल से बुलीइंग के खिलाफ जागरूकता फैलाने की मांग करते हुए एक ऑनलाइन अभियान की शुरुआत भी की गई है। वीडियो में एक अज्ञात छात्र को एक भारतीय-अमेरिकी छात्र की ओर बढ़ते हुए देखा जा सकता है। भारतीय-अमेरिकी छात्र की पहचान शान प्रीतमणि के रूप में हुई है। शान अपनी सीट पर बैठा हुआ था, जब अज्ञात छात्र ने उससे सीट छोड़ने के लिए लिए कहा।

शान ने इससे इनकार किया और इसके बाद वह छात्र उसे कंधे से पकड़कर सीट से हटाने की कोशिश करता हुआ दिखाई देता है। जब शान इसका विरोध करता है तो छात्र उसे उसका गला दबाना लगता है। इस पर शान दूसरे छात्र का हाथ पकड़कर उसे दूसरी ओर धक्का दे देता है। इस वीडियो के सामने आने के बाद स्कूल में नस्लवाद की घटनाओं के खिलाफ आवाज तेज हुई है।

वहीं शान की मां सोनिका कुकरेजा की ओर से शुरू किए गए ऑनलाइन अभियान के अनुसार स्कूल भी इसमें शान को ही दोषी हरा रहा है। उनका कहना है कि स्कूल ने हमें बताया कि शान की गलती थी और उसे तीन दिन की सजा दी गई, जबकि गलती करने वाले छात्र को केवल एक दिन की सजा मिली। स्कूल ने अपनी कार्रवाई बदलने से इनकार कर दिया है।

सोशल मीडिया पर लोग इस वीडियो को शेयर कर रहे हैं और इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए छात्रों के बीच जागरूकता फैलाने की मांग कर रहे हैं। भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने भी इस वीडियो को लेकर रोष व्यक्त किया है।