भारत-अमेरिका के बीच कारोबारी संबंधों को और मजबूत बनाएंगे ये चार दिग्गज

भारत सलाहकार परिषद की स्थापना 2017 में की गई थी। यह भारतीय कंपनियों के प्रतिनिधियों और अमेरिकी कंपनियों के भारतीय सहयोगियों के लिए एक प्रमुख रणनीतिक निकाय के रूप में काम करती है।

भारत-अमेरिका के बीच कारोबारी संबंधों को और मजबूत बनाएंगे ये चार दिग्गज

पिछले दो दशकों में दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र और सबसे बड़े लोकतंत्र-अमेरिका और भारत के बीच की साझेदारी व्यापक रूप से मजबूत हुई है। रणनीतिक सहयोग से लेकर दोनों देशों के लोगों के बीच गहरे होते संबंधों से दोनों देशों को फायदा हुआ है। इसी कड़ी में अमेरिका-भारत व्यापार परिषद (USIBC) ने अपनी भारत सलाहकार परिषद में चार शीर्ष कार्यकारियों को शामिल किया है। भारत और अमेरिका के बीच वस्तुओं का द्विपक्षीय व्यापार 2021 में 45 फीसदी बढ़कर 113 अरब डॉलर हो गया है। इससे पिछले साल में यह 78 अरब डॉलर था। दोनों देशों ने इसे 500 अरब अमेरिकी डॉलर तक बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई है।

बता दें यूएसआईबीसी एक प्रमुख रणनीतिक निकाय है। इसमें भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते व्यापार और निवेश के लिए प्रतिबद्ध भारत के सीनियर अधिकारियों का अत्यधिक प्रभावशाली नेटवर्क शामिल है। इस प्रमुख रणनीतिक परिषद में जिन्हें शामिल किया गया है उनकी उद्योग जगत में अपनी एक खास पहचान है। यूएसआईबीसी के अनुसार इस सलाहकार परिषद में 3एम इंडिया के प्रबंध निदेशक रमेश रामदुरई, डेल इंडिया के आलोक ओहरी, जेएंडके के सार्थक रानाडे और माइक्रोसॉफ्ट इंडिया से अनंत माहेश्वरी को शामिल किया गया हैं। अमेरिका-भारत व्यापार परिषद के अध्यक्ष अतुल कश्यप ने कहा कि रमेश, आलोक, सार्थक और अनंत का भारत सलाहकार परिषद में स्वागत करते हुए हमें बहुत खुशी हो रही है। हमें उम्मीद है कि वे यूएसआईबीसी को जीवन विज्ञान, डिजिटल प्रौद्योगिकी और विनिर्माण सहित विभिन्न क्षेत्रों में नई ऊंचाइयों तक ले जाने में सक्षम बनाएंगे।