अकाल तख्त ने अमेरिकी सिख को धार्मिक रूप से दोषी पाया, एक महीने के भीतर पेश होने का आदेश

जत्थेदार ने बताया कि एक अन्य एनआरआई सिख ओंकार सिंह को निर्देश दिया गया है कि वह गुरबानी के अनधिकृत पाठ को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से प्रकाशित करना तुरंत बंद कर दें। उन्हें भी प्रायश्चित के लिए अकाल तख्त के सामने पेश होने और सभी रिकॉर्ड सौंपने के लिए तलब किया गया है।

अकाल तख्त ने अमेरिकी सिख को धार्मिक रूप से दोषी पाया, एक महीने 
के भीतर पेश होने का आदेश
Photo by Salil / Unsplash

भारत के पंजाब राज्य के अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर (श्री हरमिंदर सिंह) के अकाल तख्त ने अमेरिकी निवासी थमिंदर सिंह के खिलाफ गुरबानी के कथित विरूपण और पवित्र ग्रंथ की प्रतियों को ऑफलाइन और ऑनलाइन प्रकाशित करने के लिए 'हुकुमनामा' यानी आदेश सुनाया है। अकाल तख्त के स्थानापन्न जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह की अध्यक्षता में पांच महायाजकों ने अमेरिका के थमिंदर सिंह को तन्खाई यानी धार्मिक रूप से दोषी पाया है।

अकाल तख्त ने यह फैसला सिख बुद्धिजीवियों, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति और दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के शीर्ष अधिकारियों सहित पंथिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद लिया है। जत्थेदार ने अकाल तख्त के मंच से 'हुकुमनामा' देते हुए कहा कि थमिंदर पर गुरबानी के छंदों को तोड़ने मरोड़ने, अनधिकृत तरीके से प्रतियां छापने और इन्हें पीडीएफ प्रारूप में सिखबुकक्लब डॉट कॉम वेबसाइट पर अपलोड करने का आरोप लगाया जाता है।

िख राहत मर्यादा (आचार संहिता) का घोर उल्लंघन बताते हुए जत्थेदार ने थमिंदर सिंह द्वारा प्रकाशित पाठ पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। Photo by Laurentiu Morariu / Unsplash

इसे सिख राहत मर्यादा (आचार संहिता) का घोर उल्लंघन बताते हुए जत्थेदार ने थमिंदर सिंह द्वारा प्रकाशित पाठ पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। उन्हें एक महीने के भीतर व्यक्तिगत रूप से अकाल तख्त के समक्ष पेश होकर अपनी मंशा स्पष्ट करने और अपने पास मौजूद पूरा रिकॉर्ड जमा करने का निर्देश भी दिया गया है। जत्थेदार ने मीडिया को बताया कि जब तक वह इन आदेशों को प्रस्तुत नहीं करते तब तक के लिए उन्हें तन्खाई घोषित किया जाएगा।

जत्थेदार ने बताया कि एक अन्य एनआरआई सिख ओंकार सिंह को निर्देश दिया गया है कि वह गुरबानी के अनधिकृत पाठ को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से प्रकाशित करना तुरंत बंद कर दें। उन्हें भी प्रायश्चित के लिए अकाल तख्त के सामने पेश होने और सभी रिकॉर्ड सौंपने के लिए तलब किया गया है। इस बीच 21 वेब एप्लिकेशन अकाल तख्त की जांच के दायरे में आ गए हैं, जिनमें गुरबानी पाठ हैं और उनमें व्याकरण संबंधी त्रुटियां हैं।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति को इन आवेदनों के प्रबंधन को एक महीने के भीतर त्रुटियों को ठीक करने के लिए सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया था। जत्थेदार ने कहा कि जो भक्त हाथ से गुरबानी पाठ लिखने में योगदान देना चाहते हैं, वे ऐसा तभी कर सकते हैं जब वे अकाल तख्त-प्रमाणित नियमों और शर्तों का पालन करें साथ ही उन्होंने एसजीपीसी की धर्म प्रचार समिति से अनुमति ले ली हो।