चर्चा में दो अमेरिकी जैन साध्वी, मानव तस्करी पर बनाई है खोजी डॉक्यूमेंट्री

दुनियाभर में चार लाख 50 हजार तस्करी का शिकार हुए लोगों में केवल एक फीसदी ही भाग पाते हैं या उन्हें बचाया जा पाता है। 'स्टॉपिंग ट्रैफिक: दि मूवमेंट टू एंड सेक्स ट्रैफिकिंग' नाम की यह डॉक्यूमेंट्री तस्करी पीड़ितों के दर्द की गहराई बयां करती है।

चर्चा में दो अमेरिकी जैन साध्वी, मानव तस्करी पर बनाई है खोजी डॉक्यूमेंट्री

अमेरिका के डैलस में सिद्धायतन तीर्थ के संस्थापक आचार्य योगीश के निर्देशन में जैन साध्वी सिद्धाली और साध्वी अनुभूति एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज करने वाली हैं। मानव तस्करी पर आधारित 70 मिनट की यह डॉक्यूमेंट्री 25 अप्रैल से अमेरिका के 20 थिएटर में रिलीज होगी। वहीं डिजिटल माध्यम से इस डॉक्यूमेंट्री को 15 अप्रैल को रिलीज किया जाएगा।

इस डॉक्यूमेंट्री में तस्करी से बचने वालों के लिए आश्रय स्थान क्रांति के बारे में बताया गया है। उल्लेखनीय है कि मुंबई में स्थित यह आश्रय स्थल कमाठीपुरा की महिला तस्करी पीड़ित महिलाओं के लिए काम करता है। इस डॉक्यूमेंट्री को सिद्धायतन तीर्थ और स्टॉपिंग ट्रैफिक प्रोडक्शंस ने तस्करी पर जागरूकता फैलाने के लिए मिलकर तैयार की है।