मेल फ्रॉड के जरिए बुजुर्गों को ठगने वाले 5 भारतीयों को मिलेगी बड़ी सजा!

धोखाधड़ी की इस साजिश के तहत पूरे अमेरिका और अन्य स्थानों पर कथित तौर पर बुजुर्गों को निशाना बनाया गया था। आरोपी गलत जानकारी देकर उनसे पैसे ऐंठते थे। आरोपित पांचों भारतीयों को अपराध साबित होने पर हर शख्स को 20 साल तक के कारावास की सजा हो सकती है और संभावित 2.50 लाख डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है।

मेल फ्रॉड के जरिए बुजुर्गों को ठगने वाले 5 भारतीयों को मिलेगी बड़ी सजा!

अमेरिकी अधिकारियों ने टेक्सास में बुजुर्गों को निशाना बनाने वाली मेल धोखाधड़ी की साजिश के मामले में दो और भारतीय युवाओं को आरोपित किया है। पुलिस के अनुसार इस साजिश के जरिए वर्ष 2019 से 2020 के दौरान विभिन्न शहरों से संचालित हो रही एक रिंग के जरिए पूरे देश में अपराधों को अंजाम दिया गया था।

Programming
इस मामले में तीन लोग पहले ही अपना दोष स्वीकार कर चुके हैं और सजा सुनाए जाने का इंतजार कर रहे हैं। Photo by Jefferson Santos / Unsplash

यूएस अटॉर्नी फॉर साउथर्न डिस्ट्रिक्ट ऑफ टेक्सास जेनिफर बी लोवेरी ने हाल ही में बताया कि वर्जीनिया में कैद 24 वर्षीय भारतीय नागरिक अनिरुद्ध कालकोटे को आरोपों का सामना करने के लिए नौ जून को टेक्सास लाया गया था। वहीं मामले में नामित 25 वर्षीय एमडी आजाद ह्यूस्टन का एक अवैध निवासी है। उसे मूल रूप से अगस्त 2020 में आरोपित किया गया था।

इस मामले में तीन लोग पहले ही अपना दोष स्वीकार कर चुके हैं और सजा सुनाए जाने का इंतजार कर रहे हैं। ये तीन शख्स सुमित कुमार सिंह (24), हिमांशु कुमार (24) और एमडी हासिब (26) हैं। ये सभी भारतीय नागरिक हैं और ह्यूस्टन में अवैध तरीके से रह रहे थे। आगे की कार्यवाही के लिए सभी आरोपी हिरासत में हैं।

अपराध साबित होने पर हर शख्स को 20 साल तक के कारावास की सजा हो सकती है और संभावित 2.50 लाख डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है। धोखाधड़ी की इस साजिश के तहत पूरे अमेरिका और अन्य स्थानों पर कथित तौर पर बुजुर्गों को निशाना बनाया गया था। आरोपी गलत जानकारी देकर उनसे पैसे ऐंठते थे। आरोप लगाया गया है कि रिंग के सदस्य बुजुर्ग नागरिकों को उल्टे-सीधे नियम बताकर वेस्टर्न यूनियन या मनीग्राम जैसे प्लेटफॉर्म्स के जरिए गिफ्ट कार्ड खरीदकर पैसा भेजने के लिए कहते थे और फर्जी नाम और पते पर उसे प्राप्त कर लेते थे। कंप्यूटर टेक्निकल सपोर्ट सर्विस के नाम पर धोखाधड़ी की भी एक साजिश सामने आई है।