भारतीय खेती में सुधार के लिए ब्रिटेन की यह कंपनी करेगी काम

सौदे के अनुसार यह समूह कार्बन उत्सर्जन को कम करने और जल दक्षता में सुधार करने के उद्देश्य से राज्य भर में 340 बागवानी खेतों को हीटिंग सिस्टम की आपूर्ति करेगा।

भारतीय खेती में सुधार के लिए ब्रिटेन की यह कंपनी करेगी काम

लंदन की Eneraqua Technologies PLC ने सामाजिक आवास और वाणिज्यिक परियोजनाओं के लिए हीटिंग और हॉट वॉटर सिस्टम को भारत के उत्तराखंड राज्य सरकार के बागवानी विभाग के साथ 900,000 (लगभग 9 करोड़ रुपये) के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। सौदे के अनुसार यह समूह कार्बन उत्सर्जन को कम करने और जल दक्षता में सुधार करने के उद्देश्य से राज्य भर में 340 बागवानी खेतों को हीटिंग सिस्टम की आपूर्ति करेगा।

Eneraqua की भारतीय सहायक Cenergist ने भारत की पहली प्रमुख शून्य कार्बन सिंचाई पहल के रूप में सौदे को लेकर खुशी जाहिर करते हुए खेतों की तस्वीरें साझा कीं। Eneraqua Technologies के सीईओ मितेश धनक ने टिप्पणी की कि कंपनी खुश है कि उत्तरखंड राज्य सरकार ने इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में योगदान के लिए उनका चयन किया। उन्होंने दावा किया कि कार्बन उत्सर्जन को कम करते हुए इस कार्यक्रम से जल संसाधनों पर दबाव भी कम होगा और किसानों की आय में सुधार होगा।

उन्होंने कहा कि यदि यह सफल होता है तो उत्तराखंड में परियोजना कृषि क्षेत्र के डीकार्बोनाइजेशन की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम को चिह्नित करेगी और इससे भारत के अन्य राज्यों के लिए एक खाका तैयार करने में मदद मिलेगी। साल भर चलने वाले इस कार्यक्रम की शुरुआत 2022 में होगी।

Eneraqua के अनुसार वह अपने पेटेंट प्रौद्योगिकी नियंत्रण प्रवाह HL2024 की मदद से काम करेगी जिससे पानी के उपयोग को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने से ले​कर यह किसानों को पानी के संरक्षण, फसल की उपज में सुधार और मिट्टी के कटाव को रोकने में मदद करेगा। बता दें कि Eneraqua Technologies ऊर्जा और जल दक्षता में विशेषज्ञ है। कंपनी का संचालन का मुख्य देश यूनाइटेड किंगडम है जिसका मुख्यालय लंदन में स्थित है जबकि लीड्स, वाशिंगटन, भारत, स्पेन और नीदरलैंड में कंपनी के अतिरिक्त कार्यालय हैं।