आर्थिक तौर पर उभर रहे भारत के साथ मुक्त कारोबार चाहता है ब्रिटेन

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि भारत के साथ देश की ऐतिहासिक साझेदारी को अगले स्तर पर ले जाएंगे। भारत की उभरती अर्थव्यवस्था के साथ एक व्यापार समझौता ब्रिटिश व्यवसायों, श्रमिकों और उपभोक्ताओं के लिए भारी लाभ प्रदान करेगा।

आर्थिक तौर पर उभर रहे भारत के साथ मुक्त कारोबार चाहता है ब्रिटेन

भारत और ब्रिटेन के बीच मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) से जुड़ी आधिकारिक बातचीत शुरू हो गई है। भारत के केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और ब्रिटेन में अंतरराष्ट्रीय व्यापार से जुड़ी विदेशी मामलों की मंत्री एनी-मेरी ट्रेवेलियन के बीच बातचीत हुई। दोनों देशों की ओर से जारी संयुक्त बयान में बताया गया है कि दोनों देश समझौते के जरिये वर्ष 2030 तक अपने द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ाकर दोगुना तक ले जाएंगे।

समझौता होने से पहले दोनों देशों के बीच बातचीत का दौर चलेगा। बातचीत का पहला राउंड 17 जनवरी को शुरू होने वाला है। उसके बाद के हर 5 हफ्ते बाद बातचीत होगी। संयुक्त बयान में कहा गया कि दोनों देश अगर व्यापारिक प्रतिबंधों को हटाएं और बाजार तक माल की पहुंच को आसान बनाएं तो इससे परोक्ष और अपरोक्ष तौर पर रोजगार के कई मौके बढ़ेंगे।