कोरोना महामारी के प्रकोप से उबर रहे ब्रिटेन ने विदेशी यात्रियों को दी छूट

महामारी के कारण कई प्रतिबंधों की वजह से ब्रिटेन के पर्यटन और अन्य उद्योगों को खासा नुकसान उठाना पड़ा है। पर्यटन उद्योग ने सरकार से यात्रा नियमों में बदलाव करने का आग्रह किया था। माना जा रहा है कि इस कदम से महामारी से बुरी तरह प्रभावित यात्रा उद्योग को रफ्तार मिलेगी।

कोरोना महामारी के प्रकोप से उबर रहे ब्रिटेन ने विदेशी यात्रियों को दी छूट
Photo by Samuel Pollard / Unsplash

दुनिया भर में कोविड के प्रकोप के बीच ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत  समेत अन्य विदेशी नागरिकों के लिए नई छूट की घोषणा की है। अगले महीने की 11 फरवरी से उन लोगों को ब्रिटेन आने पर कोविड टेस्ट नहीं कराना होगा, जो कोरोना के दोनों टीके लगा चुके हैं। इस फैसले को ट्रैवल इंडस्ट्री ने बड़ा कदम बताते हुए इसकी तारीफ की है। इससे पहले ब्रिटिश सरकार ने देश में आने से पहले कोविड जांच की अनिवार्यता को खत्म कर दिया था। बता दें कि पीएम जॉनसन ब्रिटेन के नागरिकों के लिए अनिवार्य रूप से मास्क पहनने सहित अन्य प्रतिबंधों को हटाने की घोषणा कर चुके हैं।

बकिंघमशायर में एक अस्पताल का दौरा करने के बाद जॉनसन ने कहा कि ओमिक्रॉन के बावजूद देश में हालात बहुत बेहतर हो रहे हैं। जल्द ही उनकी सरकार उन विदेशी नागरिकों को कोविड के सभी तरह के टेस्ट से छूट देने जा रही है जिन्होंने टीके के दोनों डोज लिए हैं। उन्होंने कहा कि आप यह बदलाव जल्द देखेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते ब्रिटेन में कुल 74,799 मामले सामने आए। इसी दौरान 75 कोरोना संक्रमितों की मौत भी हुई। इसके बावजूद हमें सावधान रहना होगा, क्योंकि ओमिक्रॉन की वेब अभी जारी है। बता दें कि ब्रिटेन आने वालों को फिलहाल दो दिन पुरानी आरटी पीसीआर निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होती है। इसके साथ ही जिन लोगों को वैक्सीन की दोनों खुराक नहीं लगी हैं उन्हें ब्रिटेन में 10 दिन के लिए आइसोलेट रहना होता है। साथ ही दूसरे और आठवें दिन पर कोरोना वायरस की जांच करवानी होती है।