ऊबर ने दिल्ली में 2014 में हुए रेप का ठीकरा भारतीय व्यवस्था पर फोड़ा, मची थी मुख्यालय तक में हलचल

बताया जाता है कि ऊबर के उस वक्त कम्यूनिकेशंस हेड रहे नैरी होर्दाज्जन ने अपने सहकर्मियों को एक मेल किया जिसमें कहा गया था कि ध्यान रहे सब कुछ आपके हाथ में नहीं होता और कई बार मुसीबत आ ही जाती है क्योंकि हम गलत रास्ते पर होते हैं।

ऊबर ने दिल्ली में 2014 में हुए रेप का ठीकरा भारतीय व्यवस्था पर फोड़ा,  मची थी मुख्यालय तक में हलचल
Photo by Mike Tsitas / Unsplash

अपने कारोबार को वैश्विक स्तर पर आगे बढ़ाने के लिए राइड सर्विस कंपनी ऊबर ने न केवल नेताओं की लॉबिंग की बल्कि नियमों की भी धज्जियां उड़ाईं। यही नहीं, कंपनी ने 5 दिसंबर 2014 में दिल्ली में हुई एक बलात्कार की घटना का ठीकरा भी भारतीय व्यवस्था पर फोड़ने की कोशिश की।

घटना के बाद मची हलचल और आक्रोश के माहौल में कंपनी ने यह लाइन ले ली कि भारत में किसी (ड्राइवर) की पृष्ठभूमि की पड़ताल व्यवस्था त्रुटिपूर्ण थी, जिसकी वजह से यह घटना हुई। गौरतलब है कि आरोपी पर यौन उत्पीड़न का यह दूसरा मामला था।