UAE: अस्पताल में 54 दिनों की जंग के बाद सदानंद ने दुर्लभ बीमारी को हराया

27 साल से संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाला मडगांवकर इस साल अगस्त के आखिरी सप्ताह में छुट्टियां बिताकर अबू धाबी लौटा था। अबू धाबी लौटने पर उन्हें बुखार और कमजोरी होने लगी। बाद में उन्हें सेपसिया सिंड्रोम बीमारी होने का पता चला।

UAE: अस्पताल में 54 दिनों की जंग के बाद सदानंद ने दुर्लभ बीमारी को हराया

एक 42 वर्षीय भारतीय प्रवासी ने अबू धाबी के एक निजी अस्पताल में 54 दिनों तक जीवन और मृत्यु के बीच संघर्ष करने के बाद एक दुर्लभ और संभावित घातक जीवाणु संक्रमण को हरा दिया और अब वह स्वस्थ हैं।

नितेश मडगांवकर को जो बीमारी सेपसिया सिंड्रोम थी, उसमें बचना आमतौर पर मुश्किल होता है। 

भारतीय राज्य गोवा के रहने वाले और पेशे से ड्राइवर नितेश सदानंद मडगांवकर को सेपसिया सिंड्रोम बीमारी होने का पता चला। यह एक जीवाणु संक्रमण रोग है जिसमें मृत्यु दर 75 प्रतिशत है यानी इस बीमारी से बचाव आमतौर पर मुश्किल होता है। सेपसिया सिंड्रोम एक संभावित घातक स्थिति है जिससे कई अंग काम करना बंद कर देते हैं और यह श्वसन प्रणाली को प्रभावित कर देती है।