कनाडा की प्रेसिडेंशियल स्कॉलरशिप पाकर राधा के सामने खुले ये दरवाजे

ह्यूरॉन यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट डॉ. बैरी क्रेग ने कहा कि इस साल राधा हरि का आवेदन सही मायनों में लकीर से हटकर था। हम ऐसे छात्रों का चयन करना चाहते हैं जो अपनी शिक्षा को एक बेहतर विश्व का निर्माण करने में उपयोग करना चाहते हैं। हमें ऐसी ही महत्वाकांक्षी और इनोवेटिव सोच की जरूरत है।

कनाडा की प्रेसिडेंशियल स्कॉलरशिप पाकर राधा के सामने खुले ये दरवाजे

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में रहने वाली एक भारतीय छात्रा कनाडा में ह्यूरॉन यूनिवर्सिटी की प्रतिष्ठित प्रेसिडेंशियल स्कॉलरशिप के लिए चुना गया है। ओउद मेथा में इंडियन हाईस्कूल में 12वीं की छात्रा राधा हरि को यह स्कॉलरशिप उनके नेतृत्व और यूएई में युवा सशक्तिकरण के लिए उनके कार्यों के लिए प्रदान की गई है। इस स्कॉलरशिप की कीमत 77 हजार अमेरिकी डॉलर (लगभग 58 लाख 92 हजार 294 रुपये) है।

इस साल अरब क्षेत्र से यह स्कॉलरशिप पाने वाली राधा अकेली छात्रा हैं। 

अपनी इस उपलब्धि को लेकर राधा ने कहा कि यह स्कॉलरशिप पाकर मैं अपने माता-पिता के कंधों से एक बड़ा बोझ उतार सकी हूं। इसने मेरे निजी और करियर डेवलपमेंट के लिए भी कई नए दरवाजे खोले हैं। पढ़ाई पूरी करने के बाद राधा हरि एक वित्तीय क्षेत्र में करियर बनाना चाहती हैं और चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट बनना चाहती हैं।

राधा हरि ने यूएई में महिला सशक्तिकरण के लिए अभियान चलाए हैं और ऐसे सत्रों का आयोजन किया है जहां छात्र कॉलेज में प्रवेश को लेकर सलाह प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर गर्ल अप नाम का एक क्लब शुरू किया था। इसका उद्देश्य युवाओं के सामने आने वाली विभिन्न चुनौतियों के साथ-साथ ब्रेस्ट कैंसर, मानसिक स्वास्थ्य, भेदभाव और प्रताड़ना जैसे मुद्दों को लेकर जागरूकता फैलाना है।

ह्यूरॉन यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट डॉ. बैरी क्रेग ने कहा कि इस साल राधा हरि का आवेदन सही मायनों में लकीर से हटकर था। हम ऐसे छात्रों का चयन करना चाहते हैं जो अपनी शिक्षा को एक बेहतर विश्व का निर्माण करने में उपयोग करना चाहते हैं। राधा ह्यूरॉन में जो सीखेंगी, उससे उनकी इच्छा दुनियाभर में सामाजिक विषमताओं का समाधान करने की है। हमें ऐसी ही महत्वाकांक्षी और इनोवेटिव सोच की जरूरत है।

यूनिवर्सिटी में इंटरनेशनल रिक्रूटमेंट एंड स्ट्रैटेजी के निदेशक मुस्तफा एज ने कहा कि हर साल हम ऐसे 10 छात्रों को प्रेसिडेंशियल स्कॉलरशिप देते हैं जिनका रुझान सेवा की ओर है और जो अपनी शिक्षा का उपयोग वैश्विक समाज पर सकारात्मक बदलाव लाने और दुनिया की कुछ सबसे बड़ी चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उल्लेखनीय है कि राधा हरि यह स्कॉलरशिप प्राप्त करने वाली यूएई की दूसरी छात्रा हैं।