अमेरिका पढ़ने गए थे, शॉपिंग से लौट रहे थे, टक्कर ने छीनी दाे छात्रों की जिंदगी

हादसा उस वक्त हुआ जब दो अलग-अलग कारों में सवार 10 छात्रों का एक समूह खरीदारी कर लौट रहा था। एक कार केप गिरार्डो, मिसौरी की 32 साल की मैरी ए मेयुनियर चला रही थी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई है। दूसरी कार पवन चला रहे थे।

अमेरिका पढ़ने गए थे, शॉपिंग से लौट रहे थे, टक्कर ने छीनी दाे छात्रों की जिंदगी

अमेरिका में भारत के तेलंगाना राज्य के रहने वाले दो छात्रों की कार दुर्घटना में मौत हो गई। इलिनॉइस में दो कारों के बीच आमने-सामने की टक्कर में 23 साल के पवन स्वर्ण और उनके मित्र वामशी कृष्णा पेचेटी की मौत हो गई। दोनों कार्बोंडेल में सदर्न इलिनॉयस यूनिवर्सिटी (एसआईयू) में पढ़ाई कर रहे थे। दूसरी कार चला रही एक अमेरिकी महिला की भी मौत हो गई। पवन और वामशी के साथ यात्रा कर रहे 3 अन्य घायल हो गए और इनमें से एक की हालत गंभीर बताई जा रही है।

पवन और वामशी एसआईयू से कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स कर रहे थे। पवन तेलंगाना के खम्मम जिले के रहने वाले थे। और वामशी तेलंगाना के मेडचल मल्काजगिरी जिले के बचुपल्ली के रहने वाले थे। बैंक अधिकारी वरप्रसाद और जेएनटीयू की प्रोफेसर पद्मजा रानी के दूसरे बेटे वामशी बीटेक करने के बाद पांच महीने पहले अमेरिका गए थे। वामशी के बड़े भाई शशि कृष्णा पिछले सात साल से अमेरिका में रह रहे हैं। तेलंगाना के राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने राज्य के दो छात्रों की मौत पर शोक व्यक्त किया।  

हादसा उस वक्त हुआ जब दो अलग-अलग कारों में सवार 10 छात्रों का एक समूह खरीदारी कर लौट रहा था। 

हादसा पिछले दिनों उस वक्त हुआ जब दो अलग-अलग कारों में सवार 10 छात्रों का एक समूह खरीदारी कर लौट रहा था। एक कार केप गिरार्डो, मिसौरी की 32 साल की मैरी ए मेयुनियर चला रही थी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई है। दूसरी कार पवन चला रहे थे। हादसे में पवन के साथ सफर कर रहे तीन अन्य भारतीय छात्र घायल हो गए। इनमें 23 साल के यशवंत एस उप्पलपति, 24 साल के कल्याण दोर्ना और 23 वर्षीय काकुमनु कार्तिक शामिल हैं। पुलिस का कहना है कि हादसे के वक्त मेनियर 2013 की नीली फिएट सेडान चला रही थी। और पवन 2019 टोयोटा सेडन पर सवार थे।

दो छात्रों की मौत की खबर से पूरा विश्वविद्यालय गमगीन है। विश्वविद्यालय के चांसलर ऑस्टिन लेन ने इस हादसे के बाद एक बयान में कहा हम एक दुखद कार दुर्घटना के बारे में जानकर दुखी हैं, जिसने दो छात्रों की जान ले ली और तीन अन्य घायल हो गए। हम इस अविश्वसनीय रूप से कठिन समय के दौरान परिवारों का समर्थन करने के लिए काम कर रहे हैं। हमारी संवेदना इन छात्रों और उनके चाहने वालों के साथ हैं।

विश्वविद्यालय के छात्र, संकाय, और समुदाय के सदस्यों ने परिसर में एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम में मोमबत्ती जलाकर दोनों छात्रों को याद किया और अपनी संवेदना व्यक्त की। इसके साथ ही भारत में पार्थिव शरीर भेजने में मारे गए छात्रों के परिवारों की मदद करने के लिए राहु रेड्डी पेसारू के नेतृत्व में 11,46,554 रुपये जुटाए।