टोक्यो पैरालंपिक: परचून दुकानदार की बेटी भाविना ने रचा इतिहास, स्वर्ण के करीब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो पैरालंपिक फाइनल में पहुंची टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल को बधाई देते हुए कहा कि उनकी उपलब्धियों ने पूरे देश को प्रेरित किया है।

टोक्यो पैरालंपिक: परचून दुकानदार की बेटी भाविना ने रचा इतिहास, स्वर्ण के करीब

टोक्यो पैरालंपिक 2020 में भारत की भाविना पटेल ने टेबल टेनिस इवेंट में इतिहास रच दिया है। भारत की टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविना ने महिला सिंगल्स के क्लास-4 के फाइनल में जगह बना ली है। यह कारनामा करने वाली वह पहली भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। उन्होंने सेमीफाइनल में चीन की मियाओ झांग को 3-2 (7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8) से हराया। भाविना ने रजत पदक पक्का कर लिया है और स्वर्ण पदक  जीतने से मात्र एक जीत दूर हैं।

फाइनल में अब भाविना का सामना चीन की ही एक और खिलाड़ी और वर्ल्ड नंबर-1 झोउ यिंग से होगा। फाइनल 29 अगस्त को सुबह 7:15 बजे से होगा। भाविना इससे पहले, झांग के खिलाफ 11 मुकाबलों में भिड़ी थी, लेकिन वह अभी जीत दर्ज नहीं कर सकी थी। हालांकि आज उन्होंने पिछली सभी हार का बदला ले लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो पैरालंपिक फाइनल में पहुंची टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल को बधाई देते हुए कहा कि उनकी उपलब्धियों ने पूरे देश को प्रेरित किया है। भाविना पटेल ने टेबल टेनिस इवेंट में इतिहास रच दिया है।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ''भाविना पटेल को बधाई। आपने शानदार खेल दिखाया। पूरा देश आपकी सफलता के लिए प्रार्थना कर रहा है और कल आपकी हौसलाअफजाई करेगा। बिना किसी दबाव के अपना बेस्ट प्रदर्शन करें। आपकी उपलब्धियों से पूरा देश प्रेरित होगा।''

भारत की पहली टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल मैच जीतने के बाद खुशी का इजहार करते हुए। 

पैरालंपिक खेलों के फाइनल में पहुंचने वाली भारत की पहली टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल ने शनिवार को कहा कि वह खुद को दिव्यांग नहीं मानती और टोक्यो खेलों में उनके प्रदर्शन ने साबित कर दिया कि कुछ भी असंभव नहीं है।