टोक्यो ओलंपिकः भारत का एक और पदक पक्का, मुक्केबाज लवलीना सेमीफाइनल में

लवलीना ने कहा कि मेरा लक्ष्य स्वर्ण पदक लाना ही है और मैं उसके लिए तैयारी करूंगी।

टोक्यो ओलंपिकः भारत का एक और पदक पक्का, मुक्केबाज लवलीना सेमीफाइनल में

भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने महिला 69 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में प्रवेश करके टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए एक और पदक को पक्का कर दिया है। असम की 23 वर्ष की मुक्केबाज ने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में चीनी ताइपे की निएन चिन चेन को 4-1 के स्कोर से हराकर भारत के लिए कांस्य पदक तय कर दिया। अब वह सेमीफाइनल मुकाबले में ट्यूनीशिया की शीर्ष वरीय बुसेनाज सुरमेनेली से भिड़ेंगी।

भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन मैच में मुकाबला करते हुए। 

मुकाबले से पहले चेन को जीतने का प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन लवलीना ने शुरू से ही आक्रामक रुख अपनाया और पहले राउंड में 30-27 से विजय पायी और दुसरे राउंड को एकमत से जीत लिया। अंत में भारत की मुक्केबाज को स्प्लिट निर्णय से विजयी घोषित किया गया और उन्होंने सेमीफाइनल में अपनी जगह बनायी।

विश्व चैंपियनशिप और एशियाई चैंपियनशिप में पदक जीत चुकी लवलीना भारत के लिए ओलंपिक मुक्केबाजी में पदक सुनिश्चित करने वाली दूसरी महिला और तीसरी मुक्केबाज हैं। इससे पहले एमसी मैरीकोम (लंदन ओलंपिक) और विजेंदर सिंह (2008 बीजिंग ओलंपिक) ने भारत के लिए कांस्य पदक जीते हैं।

विश्व चैंपियनशिप और एशियाई चैंपियनशिप में पदक जीत चुकी लवलीना मुकाबले के लिए तैयार। 

रेड कार्नर में खेल रहीं लवलीना का पहला राउंड थोड़ा मुश्किल रहा क्योंकि इस राउंड में तीन जजों ने उन्हें बेहतर आंका जबकि दो जजों ने चेन को बेहतर आंका। दूसरे राउंड में असम के लोहाघाट की इस मुक्केबाज ने अपने खेल का स्तर उठाया और सभी जजों को प्रभावित करने में सफल रहीं।

सेमीफाइनल में लवलीना का सामना तुर्की की सुमेर्नेली बुसेनाज से होगा।