कोरोना महामारी से न्यूजीलैंड का पर्यटन कारोबार तबाह, ज्यादा छूट की उठी मांग

न्यूजीलैंड की विदेशी आय का करीब 20 प्रतिशत हिस्सा अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों से आता था। लेकिन वैश्विक महामारी के कारण लागू तमाम प्रतिबंधों की वजह से विदेशी पर्यटकों का आना बंद है।

कोरोना महामारी से न्यूजीलैंड का पर्यटन कारोबार तबाह, ज्यादा छूट की उठी मांग
Photo by Liam Shaw / Unsplash

कोरोना के घट रहे मामलों के बीच दुनिया के कई देशों ने धीरे-धीरे प्रतिबंधों में छूट देने का सिलसिला शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में न्यूजीलैंड ने अन्य देशों से आने वाले वाले अपने नागरिकों के लिए खुद को एक हफ्ते तक पृथक-वास (क्वारंटीन) में रखने की अनिवार्यता को समाप्त करने का निर्णय लिया है। इसी के साथ अब यात्रियों की मुश्किलें काफी आसान हो गई हैं। बता दें कि इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई ने भी कोविड-19 नियमों में दो साल बाद ढील देने का फैसला लिया था। जिसके चलते अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों और कारोबारियों का कुछ शर्तों के साथ ऑस्ट्रेलिया में आने का सिलसिला शुरू हुआ।

कोरोना महामारी के शुरू होने के बाद न्यूजीलैंड उन देशों में शामिल रहा है जिसने अपनी सीमाओं को विदेशी नागरिकों के लिए बंद कर दिया। Photo by Samuel Ferrara / Unsplash

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने सोमवार को कहा कि टीकाकरण करा चुके लोगों के लिए न्यूजीलैंड पहुंचने के बाद एक हफ्ते तक पृथक-वास में रहने की अनिवार्यता बुधवार को समाप्त हो जाएगी। शुरुआत में यह बदलाव अन्य देशों से लौटने वाले न्यूजीलैंड के नागरिकों पर लागू होगा, क्योंकि विदेशी पर्यटकों को अभी देश में आने की अनुमति नहीं है। विदेशी यात्रियों को न्यूजीलैंड से जाने से पहले और आने के बाद अपनी कोरोना वायरस संबंधी जांच करानी होगी और संक्रमित नहीं होने की रिपोर्ट दिखानी होगी। लेकिन बिना टीकाकरण वाले न्यूजीलैंड के यात्रियों को अब भी प्रतिबंधों का सामना करना होगा और उनका पृथक-वास में रहना जरूरी होगा।