रिपब्लिकन टॉम टिफनी का दक्षिणी सीमा दौरा, भारतीय प्रवासियों से मिले, सुरक्षा पर बाइडेन प्रशासन को घेरा

टिफनी ने कहा कि कई प्रवासी तस्करी का शिकार हो जाते हैं या अनुबंधित गुलाम बन जाते हैं या फिर दक्षिणी सीमा की यात्रा के दौरान जान गंवा हैं। उन्होंने कहा कि प्रवासी मुठभेड़ के मामले में बिल क्लिंटन के समय के बाद से अब तक पिछला महीना सबसे खराब था।

रिपब्लिकन टॉम टिफनी का दक्षिणी सीमा दौरा, भारतीय प्रवासियों से मिले, सुरक्षा पर बाइडेन प्रशासन को घेरा
कांग्रेसी टिफनी ड्रग तस्करों के जूते और बैकपैक के कूड़े की समीक्षा करते हुए।

रिपब्लिकन पार्टी के प्रतिनिधि टॉम टिफनी ने अमेरिका की दक्षिणी सीमा पर प्रबंधन के लिए राष्ट्रपति जो बाइडेन की नीतियों पर सवाल उठाए हैं। टिफनी ने इस सप्ताह युमा, एरिजोना और पीनल काउंटी का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने कोलंबिया और भारत के कुछ प्रवासियों से बात भी की। जिसने बताया कि सीमा पार कराने के लिए मैक्सिको में गिरोह कार्य कर रहा है। उनके कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि टिफनी यहां देश की दक्षिणी सीमा पर बन रहे राष्ट्रीय सुरक्षा और मानवीय संकट का प्रत्यक्ष प्रभाव देखने गए थे।

विस्कॉन्सिन के सातवें जिले से प्रतिनिधि टिफनी ने कहा, मेरी एरिजोना यात्रा से यह स्पष्ट हुआ है कि राष्ट्रपति बाइडेन हमारी दक्षिणी सीमा को सुरक्षित करने की कोशिश नहीं कर रहे हैं। वह जानबूझकर इसे हटाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि बाइडेन प्रशासन अमेरिकी धरती पर सबसे खराब हमलों में से एक की योजना बना रहा है। इससे ड्रग्स और मानव तस्कर भी मजबूत होंगे।

कोलंबिया और भारत से अवैध रूप से सीमा पार करने वाले प्रवासियों से बात करते हुए कांग्रेसी टिफ़नी।

टिफनी ने कहा कि कई प्रवासी तस्करी का शिकार हो जाते हैं या अनुबंधित गुलाम बन जाते हैं या फिर दक्षिणी सीमा की यात्रा के दौरान जान गंवा हैं। उन्होंने कहा कि प्रवासी मुठभेड़ के मामले में बिल क्लिंटन के समय के बाद से अब तक पिछला महीना सबसे खराब था। डोनाल्ड ट्रंप के शासन के दौरान कुछ प्रवासियों को तेजी से हटाने के लिए लाए गए 'टाइटल 42' नामक मानक को अब वापस लिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि टाइटल 42 को हटाकर बाइडेन प्रशासन मानवीय और राष्ट्रीय सुरक्षा के वर्तमान संकट से बचने के लिए अमेरिका के टूलबॉक्स में मौजूद आखिरी हथियार को भी समाप्त कर रहा है। टिफनी ने कहा कि इस समय जैसे हालात हैं उन्हें किसी भी तरह सुखद तरीके से नहीं बताया जा सकता है। राष्ट्रपति बाइडेन के इस ओर ध्यान देना चाहिए और तत्काल प्रभाव से आवश्यक कदम उठाने चाहिए।

बयान में कहा गया कि टिफनी ने बीते सोमवार को पीनल काउंटी की यात्रा के दौरान राष्ट्रपति बाइडेन के सीमा संकट से हुए पर्यावरणीय नुकसान का जायजा लिया था। इसके अगले दिन उन्होंने युमा में मोरेलोस डैम का दौरा किया था। यहां उन्होंने प्रवासियों को अवैध रूप से देश में प्रवेश करते हुए और खुद को अमेरिकी कस्टम व सीमा सुरक्षा अधिकारियों के हवाले करते हुए देखा।

इस दौरान उन्होंने कोलंबिया और भारत के कुछ प्रवासियों से बात भी की। बयान के अनुसार इन प्रवासियों ने टिफनी को बताया कि उन्होंने यहां तक की अपनी यात्रा के लिए मेक्सिको के एक गिरोह को प्रति व्यक्ति पांच हजार डॉलर तक की राशि दी है। उन्होंने इसके लिए भी बाइडेन प्रशासन की खुली सीमा नीतियों की आलोचना की। उन्होंने कहा कि देश की दक्षिणी सीमा की सुरक्षा मजबूत की जानी चाहिए।