इन चाइनीज मोबाइल कंपनियों पर गिर सकती है गाज, भारी गड़बड़ी की आहट

भारत की केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को संसद के ऊपरी सदन को सूचित किया कि राजस्व खुफिया विभाग (डीआरआई) ने कुछ सामानों की गलत घोषणा के आधार पर ओपो को कम कस्टम ड्यूटी भरने के लिए कुल 4,389 करोड़ रुपये के सीमा शुल्क का नोटिस जारी किया।

इन चाइनीज मोबाइल कंपनियों पर गिर सकती है गाज, भारी गड़बड़ी की आहट
Photo by Utsman Media / Unsplash

भारत में सक्रिय चीनी मोबाइल कंपनियों के लिए यह वक्त भारी उठापटक का है। भारत सरकार ने देश की बड़ी मोबाइल कंपनियों में शुमार तीन प्रमुख चीनी मोबाइल कंपनियों - ओपो, वीवो इंडिया और शाओमी द्वारा कथित कर चोरी के मामलों की जांच सख्ती से शुरू कर दी है और उन्हें नोटिस जारी किए गए हैं। इन कंपनियों के खिलाफ दर्ज मामलों में आरोपों से लेकर सरकार ने आयकर चोरी और सीमा शुल्क उल्लंघन से लेकर धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग तक के आरोप लगाए हैं।

ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने चीनी स्मार्टफोन निर्माता वीवो के खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग मामले के संबंध में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और कुछ दक्षिणी राज्यों सहित 40 से अधिक स्थानों पर कथित तौर पर तलाशी ली थी। Photo by Tarikul Raana / Unsplash

भारत की केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को संसद के ऊपरी सदन को सूचित किया कि राजस्व खुफिया विभाग (डीआरआई) ने कुछ सामानों की गलत घोषणा के आधार पर ओपो को कम कस्टम ड्यूटी भरने के लिए कुल 4,389 करोड़ रुपये के सीमा शुल्क का नोटिस जारी किया।
इसके अलावा, ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने चीनी स्मार्टफोन निर्माता वीवो के खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग मामले के संबंध में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और कुछ दक्षिणी राज्यों सहित 40 से अधिक स्थानों पर कथित तौर पर तलाशी ली थी।