यूक्रेन में सोवियत के बने बंकर में फंसे भारतीय छात्रों की कहानी, है डरावनी

भारतीय छात्रों को बंकर में बने छोटे छोटे कमरों में शरण लेने का निर्देश दिया गया है। उनकी नजदीकी किराना दुकान 3 दिन पहले तक खुली थी। अब उनके पास भोजन और अन्य जरूरतों की कमी हो रही है।

यूक्रेन में सोवियत के बने बंकर में फंसे भारतीय छात्रों की कहानी, है डरावनी

रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद से शीत युद्ध  के दौरान सोवियत द्वारा बनाए गए एक बंकर में सैकड़ों भारतीय छात्र शरण लिए हुए हैं। भारतीय छात्रों का यह समूह यूक्रेन में फंसे हजारों में से एक है। एक छात्र ने बताया कि उसके छात्रावास में लगभग 500 छात्र हैं, जो अब अपने जीवन में पहली बार युद्ध देख रहे हैं। उनके कीव स्थित छात्रावास का निकटतम हवाई अड्डा 30 किलोमीटर  दूर बॉरिस्पिल है जिसे 24 फरवरी की सुबह रूसी सेना द्वारा जला दिया गया था।

छात्रों के इस समूह में से एक छात्र ने इंडियन स्टार को बताया कि छात्रों को सायरन सुनने पर यूक्रेनी अधिकारियों द्वारा इस बंकर में बने छोटे छोटे कमरों में शरण लेने का निर्देश दिया गया है। एक कमरा केवल 150 वर्ग फुट का है। उनकी नजदीकी किराना दुकान 3 दिन पहले तक खुली थी। अब उनके पास भोजन और अन्य जरूरतों की कमी हो रही है। छात्रों में से एक, भूखा महसूस कर रहा था, आधी रात में, जब उसने बाहर निकलने की कोशिश की तो उसने अपने सामने रूसी गोलाबारी से होने वाले एक विस्फोट को अपने हॉस्टल के ठीक सामने देखा।