कैंपबेल होंगे एयर इंडिया के नए CEO, भारत सरकार की मंजूरी होगी जरूरी

एयर इंडिया के नए बॉस के रूप में विल्सन की नियुक्ति से पहले तुर्की के इल्कर आयसी को सीईओ के पद पर रखने का फैसला लिया गया था। हालांकि आयसी के राजनीतिक संबंधों को लेकर भारत में उनका विरोध हुआ जिसके बाद एयर इंडिया ने अपने फैसले को बदल दिया।

कैंपबेल होंगे एयर इंडिया के नए CEO, भारत सरकार की मंजूरी होगी जरूरी

सिंगापुर की कम लागत वाली एयरलाइन स्कूट (Scoot)  के प्रमुख कैंपबेल विल्सन को एयर इंडिया का नया मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) और प्रबंध निदेशक (MD) नियुक्त किया गया है। न्यूजीलैंड में जन्मे विल्सन 15 जून को अपनी वर्तमान भूमिका से हटेंगे और एयर इंडिया में पदभार संभालेंगे।

हालांकि भारत में एक एयरलाइन के सीईओ के रूप में एक विदेशी नागरिक की नियुक्ति को आगे बढ़ने से पहले सरकारी मंजूरी की आवश्यकता होती है। बता दें कि टाटा ग्रुप ने ने जनवरी में एयर इंडिया को सरकार के स्वामित्व से वापस ले लिया था और तभी से ही एयर इंडिया को कंपनी प्रमुख की तलाश थी।

विल्सन ने सिंगापुर एयरलाइंस में 15 साल से अधिक समय बिताया है। 

एयर इंडिया के नए बॉस के रूप में विल्सन की नियुक्ति से पहले तुर्की के इल्कर आयसी को सीईओ के पद पर रखने का फैसला लिया गया था। हालांकि आयसी के राजनीतिक संबंधों को लेकर भारत में उनका विरोध हुआ, जिसके बाद एयर इंडिया ने अपने फैसले को बदल दिया। दरअसल आयसी तुर्की एयरलाइंस के लिए काम कर रहे थे और उनके तुर्की राष्ट्रपति रिसेप्ट तैयप एर्दोगन के साथ घनिष्ठ संबंध हैं।

सिंगापुर एयरलाइंस स्कूट में विल्सन की जगह लेस्ली थंग को दी जाएगी, जो स्कूट में बिक्री और विपणन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष के रूप में कार्यरत हैं। एविएशन इंडस्ट्री में विल्सन को करीब 26 साल हो चुके हैं। विल्सन ने 1996 में न्यूजीलैंड में सिंगापुर एयरलाइंस के साथ एक प्रबंधन प्रशिक्षु के रूप में शुरुआत की थी। सिंगापुर एयरलाइंस टाटा के स्वामित्व वाली एक अन्य एयरलाइन विस्तारा में भागीदार है। विल्सन ने सिंगापुर एयरलाइंस में 15 साल से अधिक समय बिताया है। इस दौरान उन्होंने जापान, कनाडा और हांगकांग समेत कई देशों में काम किया है।