Tagged

विचार

A collection of 65 posts

मुलाकात के बाद डॉ. संपत ने कहा, भारत के महान मित्र हैं सीनेटर रोजर विकर
विचार

मुलाकात के बाद डॉ. संपत ने कहा, भारत के महान मित्र हैं सीनेटर रोजर विकर

इंडियन अमेरिकन फोरम के अध्यक्ष डॉ. संपत शिवांगी ने कहा कि भारत के लिए महान अवसर है कि हमारे सीनेटर रोजर विकर जो भारत के महान मित्र हैं, भारत की रक्षा जरूरतों को रूस से बेहतर तकनीकों के साथ प्रदान करने में भारत की मदद कर सकते हैं।

शहबाज भी अगर कश्मीर पर रगड़ मारते रहे तो भारत से न बन पाएगी
विचार

शहबाज भी अगर कश्मीर पर रगड़ मारते रहे तो भारत से न बन पाएगी

भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को देखिए। उन्होंने शहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी और कहा भारत आतंक मुक्त क्षेत्र में शांति और स्थिरता चाहता है। दोनों पड़ोसी देशों का नजरिया साफ है। पाकिस्तान की सुईं आज भी कश्मीर पर रगड़ खा रही है तो भारत विश्व की गंभीर समस्या आतंकवाद पर बात करना चाहता है।

विशेष लेख: अमेरिका को एक नए युग में ले जा रहे हैं राष्ट्रपति बाइडेन
विचार

विशेष लेख: अमेरिका को एक नए युग में ले जा रहे हैं राष्ट्रपति बाइडेन

लेखक अजय भूटोरिया एशियन अमेरिकन पैसिफिक आइलैंडर के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन के एडवाइजर होने के साथ नेटिव हैवेन कमीशन और नेशनल कम्युनिटी लीडर भी हैं।

विशेष लेख: भारत ढुलमुल नहीं है राष्ट्रपति बाइडेन जी... यह समझदारी है उसकी
विचार

विशेष लेख: भारत ढुलमुल नहीं है राष्ट्रपति बाइडेन जी... यह समझदारी है उसकी

नई दिल्ली के पास देखने के लिए अन्य चीजें हैं, विशेष रूप से चीन जैसे परेशान करने वाला पड़ोसी और बीजिंग पर लगाम के लिए वाशिंगटन और मॉस्को की तरफ देखना। अंतरराष्ट्रीय राजनीति के इस खेल में किसी पक्ष को छोड़ा नहीं जा सकता और दोनों ही परिदृश्य भारत के हित में नहीं हैं।

भारत-यूके साप्ताहिक बुलेटिन: 6-12 मार्च
विचार

भारत-यूके साप्ताहिक बुलेटिन: 6-12 मार्च

यूके भर में भारतीयों को अग्रिम पंक्ति में बचाया गया, जबकि व्यवसायों ने यूके में 2030 रोडमैप को प्राप्त करने के लिए कई परियोजनाओं के साथ सहयोग किया।

'अमेरिका की अर्थव्यवस्था 20 वर्षों में पहली बार चीन की तुलना में तेजी से बढ़ी'
विचार

'अमेरिका की अर्थव्यवस्था 20 वर्षों में पहली बार चीन की तुलना में तेजी से बढ़ी'

इस लेख को अजय भुटोरिया ने लिखा है जो सिलिकॉन वैली में तकनीकी कार्यकारी होने के अलावा प्रभावशाली राष्ट्रीय दक्षिण एशियाई नेता भी हैं। इसके अलावा वह दक्षिण एशियाई और एएपीआई समुदाय के लिए वकालत भी करते हैं। अजय भुटोरिया डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए उप राष्ट्रीय वित्त अध्यक्ष भी हैं।

ताजमहल: विश्व का एक ऐसा अजूबा जो विश्वविख्यात भी और प्रेम का प्रतीक भी
विचार

ताजमहल: विश्व का एक ऐसा अजूबा जो विश्वविख्यात भी और प्रेम का प्रतीक भी

भारत में मुगलों ने जितने भी किले या स्मारक बनवाएं हैं, उनमें ताजमहल श्रेष्ठ है। पूरे विश्व में ऐसा कोई स्मारक नहीं है जो सफेद संगमरमर से बनाई है। ताजमहल को लेकर लगातार विवाद भी चलते रहे हैं और इसकी विरासत पर सवाल उठाए जाते रहे हैं। लेकिन इस बात से इनकार नहीं है ताजमहल प्रेम का प्रतीक है।

विशेष: ओझल होने से पहले इन खूबसूरत स्थलों को एक बार जरूर निहार लें
विचार

विशेष: ओझल होने से पहले इन खूबसूरत स्थलों को एक बार जरूर निहार लें

भारत के यह ऐसे स्थल हैं जो अधिकतर प्राकृतिक हैं और वर्षों से आकर्षित कर रहे हैं। निर्माण और प्राकृतिक संसाधनों का दोहन इन स्थलों को लगातार क्षरित कर रहा है। जिस कारण इनके अस्तित्व को लेकर खतरा पैदा हो गया है। एकाध ऐसे भी स्थल हैं तो मानव-निर्मित हैं, लेकिन रखरखाव के अभाव के कारण मिट रहे हैं।

हमारी प्राणदायिनी धरती कब तक सांप्रदायिकता के उन्माद की भेंट चढ़ती रहेगी!
विचार

हमारी प्राणदायिनी धरती कब तक सांप्रदायिकता के उन्माद की भेंट चढ़ती रहेगी!

अब नयी पीढ़ी के लिए एक चुनौती है कि वह विश्व की सर्वप्रथम प्रचलित रही मूल संस्कृति एवं अपने पूर्वजों के वास्तविक इतिहास को जानने के लिए समस्त विश्वसनीय तकनीकों का सहारा लेकर विश्व के वास्तविक इतिहास को पुनः खोजें

अनूठा है वेंकटेश्वर मंदिर, दर्शन से मिलती है जन्म-मृत्यु के बंधन से मुक्ति
विचार

अनूठा है वेंकटेश्वर मंदिर, दर्शन से मिलती है जन्म-मृत्यु के बंधन से मुक्ति

मंदिर में रोजाना करीब एक लाख श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। बैकुंठ एकादशी के दिन भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने का खास महत्व है। द्रविड़ स्मारक मूल रूप से पिरामिड के आकार की संरचनाओं से युक्त होते हैं और मंदिर उत्कृष्ट आकृति की मूर्तियों, विशाल स्तंभों और नक्काशीदार मीनारों के साथ अलंकृत होते हैं।

हुमायूं मकबरे के डिजाइन से प्रेरित है ताजमहल, जन्नत के बाग जैसा है नजारा
विचार

हुमायूं मकबरे के डिजाइन से प्रेरित है ताजमहल, जन्नत के बाग जैसा है नजारा

मकबरा एक ऊंचे, चौड़े सीढ़ीदार चबूतरे पर बना है, जिसके चारों तरफ अंदर जाने के गहरे रास्ते व अंदर कोठरियां है। मकबरे का डिजाइन अष्टकोणीय है जिसमें चार लंबी मीनारें हैं। इस पर 42.5 मीटर ऊंचे संगमरमर के दो गुंबद हैं। संरचना लाल बलुआ पत्थर में सफेद और काले रंग की संगमरमर को मिलाकर बनाई गई है।

तमिलनाडु के इस प्राचीन मंदिर के बारे में जान लीजिए, भव्यता देख हो जाएंगे हैरान
विचार

तमिलनाडु के इस प्राचीन मंदिर के बारे में जान लीजिए, भव्यता देख हो जाएंगे हैरान

यह मंदिर इतना भव्य है कि इसे सात अजूबों के लिए नामित किया गया था। देवी पार्वती को समर्पित यह सबसे पुराना और प्रसिद्ध मंदिर है। हर साल दुनियाभर के लाखों भक्त यहां पहुंचते हैं।

अमेरिका के विपरीत प्राकृतिक वातावरण में राजस्थान अतुल्य लगा
विचार

अमेरिका के विपरीत प्राकृतिक वातावरण में राजस्थान अतुल्य लगा

होटल के कमरे को स्वच्छ करने के लिए अफ्रीकन अमेरिकन मूल की एक विशालकाय माताजी आती थीं। उन्हें देखकर मुझे रामायण धारावाहिक में लंका का अभिनय करने वाली कलाकार का चित्र स्मरण हुआ। उनका स्वभाव बहुत अच्छा था, पूरी निष्ठा व शांत भाव से साफ सफाई करती थीं।

जीवन में एक बार 'काशी विश्वनाथ मंदिर' जरूर जाएं, मोक्ष की होती है प्राप्ति!
विचार

जीवन में एक बार 'काशी विश्वनाथ मंदिर' जरूर जाएं, मोक्ष की होती है प्राप्ति!

भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के धार्मिक शहर वाराणसी में स्थित यह मंदिर भगवान शिव का सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है। इस मंदिर का जिक्र स्कंद पुराण में किया गया है। वाराणसी शहर को प्राचीन काल में काशी के नाम से जाना जाता था, यही कारण है कि इस मंदिर को काशी विश्वनाथ मंदिर कहा जाता है।

भारत के राज्यों की संस्कृति, जीवन शैली, हस्तकला व खानपान को दर्शाते हैं दिल्ली हाट
विचार

भारत के राज्यों की संस्कृति, जीवन शैली, हस्तकला व खानपान को दर्शाते हैं दिल्ली हाट

पहला दिल्ली हाट साउथ दिल्ली स्थित आईएनए में वर्ष 1994 में बना। उत्तरी दिल्ली स्थित पीतमपुरा में वर्ष 2008 में दूसरा और पश्चिमी दिल्ली स्थित जनकपुराी में भी वर्ष 2013 में तीसरा हाट बना। ये देश के सांस्कृतिक केंद्र के रूप से मशहूर हो चुके हैं। ऐसा लगता है कि पूरा भारत एक ही स्थल पर सिमट आया हो।

अथर्ववेद के मंत्र से मोह को योग से जीतने का यत्न
विचार

अथर्ववेद के मंत्र से मोह को योग से जीतने का यत्न

मन का आंगन परिजनों की स्मृति से घिरा रहता था और देह का स्वभाव भारतीय समय के अनुराग को नहीं छोड़ पा रहा था। रात को नींद नहीं आती थी और दिन को जागने का मन नहीं होता था।

विशेष लेख: पाकिस्तान और सऊदी अरब के बीच बिगड़े रिश्ते
विचार

विशेष लेख: पाकिस्तान और सऊदी अरब के बीच बिगड़े रिश्ते

अमेरिकी लेखिका सी क्रिस्टीन फेयर जार्जटाउन यूनिवर्सिटी में असोसिएट प्रोफेसर हैं। वह दक्षिण एशिया के राजनैतिक व सैन्य मामलों की विशेषज्ञ मानी जाती हैं। ‘इंडियन स्टार’ के लिए उन्हें विशेष रूप से हिंदी में अपना लेख लिखा है, जिसमें सऊदी अरब व पकिस्तान के बनते-बिगड़ते रिश्तों का विश्लेषण किया गया है।

विशेष सीरीज: सुप्रीम कोर्ट के निर्णायक फैसले से ही सुलझा अयोध्या विवाद
विचार

विशेष सीरीज: सुप्रीम कोर्ट के निर्णायक फैसले से ही सुलझा अयोध्या विवाद

वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र सिंह पिछले 45 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं। उन्होंने देश के प्रमुख समाचार पत्रों में कार्य किया है। अयोध्या की दो प्रमुख घटनाओं 1990 में गोलीकांड व 1992 में विवादित ढांचे के विध्वंस के वह चश्मदीद गवाह रहे हैं। अयोध्या प्रकरण पर पढ़िए श्री सिंह का ‘आंखों-देखा’ हाल।

विशेष लेखः गुलामी से भरी मानसिकता हमें जड़ों से दूर करती है
विचार

विशेष लेखः गुलामी से भरी मानसिकता हमें जड़ों से दूर करती है

मैं यह नहीं कहना चाहता कि भारतीयों व अमेरिकियों के अनेक व्यवहार उल्टे हैं, बल्कि यह कहना चाहूंगा कि भारतीयों में अंग्रेजों की ग़ुलामी के बाद जो परिवर्तन आए वे अमेरिका में प्रचलित दैनिक व्यवहारों के विपरीत हो गए।

विशेष सीरीज: कल्याण सिंह नहीं थे विवादित ढांचा विध्वंस के पक्ष में
विचार

विशेष सीरीज: कल्याण सिंह नहीं थे विवादित ढांचा विध्वंस के पक्ष में

वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र सिंह पिछले 45 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं। उन्होंने देश के प्रमुख समाचार पत्रों में कार्य किया है। अयोध्या की दो प्रमुख घटनाओं 1990 में गोलीकांड व 1992 में विवादित ढांचे के विध्वंस के वह चश्मदीद गवाह रहे हैं। अयोध्या प्रकरण पर पढ़िए श्री सिंह का ‘आंखों-देखा’ हाल।

विशेष सीरीज: अयोध्या की घटना से देश का सांप्रदायिक माहौल बिगड़ा
विचार

विशेष सीरीज: अयोध्या की घटना से देश का सांप्रदायिक माहौल बिगड़ा

वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र सिंह पिछले 45 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं। उन्होंने देश के प्रमुख समाचार पत्रों में कार्य किया है। अयोध्या की दो प्रमुख घटनाओं 1990 में गोलीकांड व 1992 में विवादित ढांचे के विध्वंस के वह चश्मदीद गवाह रहे हैं। अयोध्या प्रकरण पर पढ़िए श्री सिंह का ‘आंखों-देखा’ हाल।

घरों की देहरी पर दीया और बड़ों से आशीर्वाद, बहुत कुछ था उस दिवाली में
विचार

घरों की देहरी पर दीया और बड़ों से आशीर्वाद, बहुत कुछ था उस दिवाली में

आज हम भारत की पुरानी दिल्ली में मनाई जाने वाली दिवाली से रूबरू करा रहे हैं। असल में कुछ साल पूर्व तक देश के किसी भी राज्य के पुराने शहर में इसी तरह से ही दिवाली मनाई जाती थी। जो प्रवासी भारतीय, भारत के पुराने शहर से जुड़े रहे हैं, उन्हें यह दीवाली की कहानी उनके पुराने दिनों की याद दिलाएगी।

विशेष सीरीज: कारसेवकों ने लोहे की रैलिंगों से ढांचा तोड़ना शुरू कर दिया
विचार

विशेष सीरीज: कारसेवकों ने लोहे की रैलिंगों से ढांचा तोड़ना शुरू कर दिया

वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र सिंह पिछले 45 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं। उन्होंने देश के प्रमुख समाचार पत्रों में कार्य किया है। अयोध्या की दो प्रमुख घटनाओं 1990 में गोलीकांड व 1992 में विवादित ढांचे के विध्वंस के वह चश्मदीद गवाह रहे हैं। अयोध्या प्रकरण पर पढ़िए श्री सिंह का ‘आंखों-देखा’ हाल।

विशेष सीरीज: यूपी सरकार ने कहा, अयोध्या में ‘परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा'
विचार

विशेष सीरीज: यूपी सरकार ने कहा, अयोध्या में ‘परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा'

वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र सिंह पिछले 45 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं। उन्होंने देश के प्रमुख समाचार पत्रों में कार्य किया है। अयोध्या की दो प्रमुख घटनाओं 1990 में गोलीकांड व 1992 में विवादित ढांचे के विध्वंस के वह चश्मदीद गवाह रहे हैं। अयोध्या प्रकरण पर पढ़िए श्री सिंह का ‘आंखों-देखा’ हाल।

विशेष लेखः पाकिस्तान की चीयरलीडर भूमिका से अफगानिस्तान को मदद नहीं मिल रही!
विचार

विशेष लेखः पाकिस्तान की चीयरलीडर भूमिका से अफगानिस्तान को मदद नहीं मिल रही!

स्वीडन के विकास मंत्री ने एक एजेंसी की रिपोर्ट में कहा है कि देश पतन के कगार पर है और यह पतन हमारे विचार से तेजी से आ रहा है। मंत्री ने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि यह पतन आतंकवादी समूहों के पनपने के लिए वातावरण तैयार करेगा।