सऊदी अरब: कोरोना वैक्सीन नहीं लगने वाले बच्चे अनुपस्थित नहीं माने जाएंगे

सऊदी अरब में कोरोना की स्थिति फिलहाल कंट्रोल में है और सरकार कोरोना गाइडलाइंस के तहत स्कूलों को खोलने की इजाजत दे रही है। हालांकि छोटे बच्चों को अभी डिस्टेंस लर्निंग ही करनी होगी।

सऊदी अरब: कोरोना वैक्सीन नहीं लगने वाले बच्चे अनुपस्थित नहीं माने जाएंगे

सऊदी अरब में स्कूल खुलने के बाद जिन छात्रों को दो-खुराक वाली कोरोना वैक्सीन नहीं मिली, उन्हें अनुपस्थित माना जाने लगा था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब ऐसे बच्चों को अनुपस्थित नहीं माना जाएगा। स्कूलों को खुला रखने के लिए स्थानीय विभागों ने कई तैयारियां की हैं। मंत्रालय ने 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को टीकाकरण प्रदान करने के लिए सभी सुविधाओं की स्थापना की है। स्कूलों में केवल उन छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा, जिन्हें टीके की दो खुराक लग चुकी हैं।

From the exhibition "The Nineties: A Glossary of Migrations" 
https://www.muzej-jugoslavije.org/en/exhibition/devedesete-recnik-migracija/
सऊदी में भारतीय स्कूलों को 19 सितंबर से खोलने का फैसला किया गया है।

सऊदी अरब में कोरोना वायरस की वजह से स्कूल करीब 18 महीने तक बंद रहे। अब धीरे-धीरे स्कूलों को सुरक्षित तरीके से खोला जा रहा है। इसी के तहत कुछ स्कूलों को बीती 29 अगस्त से खोल दिया गया था। मंत्रालय के मुताबिक अभी प्राथमिक और किंडरगार्टन स्कूलों के बच्चे आगामी 30 अक्टूबर तक डिस्टेंस लर्निंग जारी करेंगे। इसके अलावा भारतीय स्कूल पहले रविवार को खुलने वाले थे, लेकिन बाद में इस 19 सितंबर से खोलने का फैसला किया गया है। हालांकि शिक्षकों और अन्य अधिकारियों ने स्कूलों में आना शुरू कर दिया है।