अचानक आई बाढ़ में बहा अरुणाचल का रणनीतिक रूप से अहम पुल

सीमा सड़क संगठन (BRO) के अधिकारियों ने यह जानकारी साझा की है। कुरुंग कुमे के अतिरिक्त उपायुक्त (ADC) ओशन गाओ ने सड़क मार्ग की जल्द बहाली के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। पुल दुरुस्त करने के लिए सभी जरूरी मैनपावर और मशीनों को प्राथमिकता से कार्य करने के लिए बुलाया गया है।

अचानक आई बाढ़ में बहा अरुणाचल का रणनीतिक रूप से अहम पुल
Photo by Mayur More / Unsplash

भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण दो स्थानों को जोड़ने वाला एक पुल बाढ़ में बह गया। सीमा सड़क संगठन (BRO) के अधिकारियों ने यह जानकारी साझा की है। अधिकारियों के अनुसार यह पुल भारत और चीन के बीच सीमा के पास कोरोरू गांव के नजदीक ओयोंग नदी पर बना हुआ था। यह पुल जिला मुख्यालय कोलोरिंग को दामिन से जोड़ता था।

जानकारी के अनुसार अचानक आई बाढ़ का असर पुल पर कुछ इस तरह का रहा कि धारा से करीब 100 मीटर नीचे पुल का केवल एक ही पैनल दिखाई दे रहा था। 

बीआरओ के प्रोजेक्ट अरुणांक के चीफ इंजीनियर ब्रिगेडियर अनिरुद्ध एस कंवर ने बताया कि ली से करीब एक किलोमीटर दूर कोलोरियांग-हुरी रोड पर बना पुल शनिवार को अचानक आई बाढ़ में बह गया। वहीं कुरुंग कुमे के अतिरिक्त उपायुक्त (ADC) ओशन गाओ ने सड़क मार्ग की जल्द बहाली के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

अनिरुद्ध कंवर ने बताया कि अरुणांक प्रोजेक्ट के तहत 756 सीमा सड़क कार्य बल (BRTF) की 119 सड़क निर्माण कंपनी (RCC) की ओर से इसे बहाल करने के लिए सभी जरूरी मैनपावर और मशीनों को प्राथमिकता से कार्य करने के लिए बुलाया गया है।

उन्होंने आगे बताया कि 119 आरसीसी के कमांडिंग अधिकारी रोशन और प्लाटून कमांडर मोहित कुमार मौके पर मौजूद हैं और सड़क मार्ग को बहाल करने का काम कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार अचानक आई बाढ़ का असर पुल पर कुछ इस तरह का रहा कि धारा से करीब 100 मीटर नीचे पुल का केवल एक ही पैनल दिखाई दे रहा था।