डीएफसी ने भारत की इस फार्मास्युटिकल कंपनी को दी कितने की मदद?

हैदराबाद स्थित बायोलॉजिकल ई लिमिटेड को कोविड-19 टीकों के उत्पादन के लिए 50 मिलियन डॉलर की सहायता प्राप्त हुई है। हैदराबाद में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास ने कहा कि इस समझौते से निकटवर्ती कोविड-19 से लड़ने के प्रयासों को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

डीएफसी ने भारत की इस फार्मास्युटिकल कंपनी को दी कितने की मदद?
Photo by National Cancer Institute / Unsplash

भारत की हैदराबाद स्थित फार्मास्युटिकल कंपनी, बायोलॉजिकल ई लिमिटेड को अपने कोविड-19 टीकों के उत्पादन के लिए यूनाइटेड स्टेट्स इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन (डीएफसी) से एक बड़ी मदद मिली है। बताया जा रहा है कि कंपनी को डीएफसी की तरफ से 50 मिलियन डॉलर (करीब 374 करोड़ रुपये) की सहायता प्राप्त हुई है।

1953 में स्थापित हुई बायोलॉजिकल ई, भारत में पहली निजी क्षेत्र की जैविक उत्पाद कंपनी होने का दावा करती है। 

डीएफसी के मुख्य परिचालन अधिकारी डेविड मार्चिक और बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड की प्रबंध निदेशक महिमा दतला सोमवार को बायोलॉजिकल ई. की कोविड-19 टीके की उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए इस वित्तीय समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे। यह समझौता मूल रूप से मार्च में हुआ था जब संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत के नेता "क्वाड" शिखर सम्मेलन के दौरान मिले थे।