वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के छात्रों तक भारत की संस्कृति पहुंचाने के लिए इन्होंने ये किया

एस.रॉव और उषा वाराणसी ने भारत से जुड़े स्टडीज और लैंग्वेज कोर्स को बढ़ावा देने के लिए 1,00,000 डॉलर (लगभग 75 लाख रुपये) डोनेट किया है। दरअसल वे दोनों वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में पूर्व छात्र रह चुके हैं।

वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के छात्रों तक भारत की संस्कृति पहुंचाने के लिए इन्होंने ये किया
Photo by Susan Q Yin / Unsplash

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्रों के लिए भारत के बारे में जानना और समझना अब और भी आसान हो गया है। दरअसल, वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में हेनरी एम.जैक्सन स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज नाम का एक कॉलेज है, जिसमें 1909 से दक्षिणी एशिया के कई कोर्स और भाषाएं पढ़ाई जाती हैं।

पूरी वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के छात्र भारतीय भाषाओं सहित भारतीय संस्कृति की पढ़ाई जैक्सन स्कूल में कर सकते हैं। (Photo : asian.washington.edu)

इस कॉलेज से ही वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में साउथ एशिया से जुड़े पाठ्यक्रम की शुरूआत हुई थी और अब इस कॉलेज को भारतीय मूल के एस.रॉव और उषा वाराणसी ने भारत से जुड़े स्टडीज और लैंग्वेज कोर्स को बढ़ावा देने के लिए 1,00,000 डॉलर (लगभग 75 लाख रुपये) डोनेट किया है। दरअसल, एस.रॉव और उषा वाराणसी वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में पूर्व छात्र रह चुके हैं।