सिंगापुर में पर्यटक बढ़ गए तो खराब सेवाओं की शिकायतें भी बढ़ने लगीं!

बोर्ड के अनुसार साल की शुरुआत से ही सिंगापुर जाने वालों में भारतीय नागरिकों का सबसे बड़ा समूह रहा है। जनवरी से अप्रैल तक लगभग 95,500 भारतीयों ने सिंगापुर में प्रवेश किया। सिंगापुर प्रशासन चाहता है कि देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए पर्यटन को प्री कोविड स्तर तक जल्द से जल्द पहुंचाया जाए।

सिंगापुर में पर्यटक बढ़ गए तो खराब सेवाओं की शिकायतें भी बढ़ने लगीं!
Photo by Ajit Sandhu / Unsplash

वर्ष 2022 की शुरुआत में सिंगापुर द्वारा सीमाएं खोलने के बाद पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है, जिसमें भारतीय सबसे अधिक है। सिंगापुर पर्यटन बोर्ड द्वारा प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक अकेले अप्रैल में पर्यटकों की संख्या मार्च की तुलना में दोगुनी से अधिक हो गई। जहां मार्च में 1,21,200 पर्यटक सिंगापुर आए वहीं यह संख्या अप्रैल में 2,94,000 थी। हालांकि यह आंकड़ा अभी भी प्री-कोविड लेवल को छूने से बहुत दूर है।

Singapore at Night
सिंगापुर प्रशासन चाहता है कि देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए पर्यटन को प्री कोविड स्तर तक जल्द से जल्द पहुंचाया जाए। Photo by Mike Enerio / Unsplash

बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार साल की शुरुआत से ही सिंगापुर जाने वालों में भारतीय नागरिकों का सबसे बड़ा समूह रहा है। जनवरी से अप्रैल तक लगभग 95,500 भारतीयों ने सिंगापुर में प्रवेश किया। जबकि दूसरे स्थान पर 89,700 इंडोनेशियाई नागरिक सिंगापुर पहुंचे तो वहीं 45,600 मलेशियाई सिंगापुर आए। हालांकि बोर्ड ने भूमि सीमा से सिंगापुर आने वाले मलेशियाई लोगों की गणना नहीं की है। दरसअल इस मार्ग का उपयोग करने वाले अधिकांश लोग प्रतिदिन अध्ययन या काम करने आते हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक पर्यटकों की संख्या इतनी तेजी से बढ़ रही है कि यात्रा संबंधी फर्म और रेस्तरां जैसे आगंतुकों को सेवाएं मुहैया कराने वाली कंपनियां मांग को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रही हैं। स्टाफ की कमी के चलते ग्राहकों की खराब सेवा की शिकायत भी आ रही हैं। सिंगापुर सरकार इस समय फर्मों को इस समस्या से निपटने के लिए पर्याप्त लोगों को काम पर रखने में मदद करने की कोशिश कर रही है।

दरअसल सिंगापुर प्रशासन चाहता है कि देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए पर्यटन को प्री कोविड स्तर तक जल्द से जल्द पहुंचाया जाए। सिंगापुर प्रशासन ने इसी के चलते अभी तक 90 फीसदी नागरिकों को कोरोना की दोनों डोज दे दी है जबकि 75 फीसदी को बूस्टर डोज लगा दी है। फरवरी में लगभग 20,000 तक कोरोना के मामले पहुंचने के बाद अब मरीजों की संख्या 2,000 से 3,000 के बीच है।