विदेशों में बसे कामयाब भारतीय मूल के ‘रत्नों’ को पद्म सम्मान से नवाजा गया

विज्ञान और तकनीकी के क्षेत्र में शानदार काम के लिए मैक्सिको के भारतीय मूल के स्वर्गीय संजय राजाराम को मरणोपरांत पद्मभूषण से सम्मानित किया गया है। ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय मूल के डॉक्टर प्रोकर दासगुप्ता को चिकित्सा के क्षेत्र में काम करने के लिए पद्मश्री मिला है।

विदेशों में बसे कामयाब भारतीय मूल के ‘रत्नों’ को पद्म सम्मान से नवाजा गया

गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत सरकार की तरफ से पद्म सम्मान दिए जाने वाले लोगों की लिस्ट में विदेशों में कामयाबी का परचम लहराने वाले भारतीय मूल के कई दिग्गज शामिल हैँ। ये ऐसी शख्सियत हैं जिन्होंने विदेशों में भारत का नाम ऊंचा किया। इनमें गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई, माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नारायण नडेला, लेखिका और अभिनेत्री मधुर जेफ्री जैसे दिग्गज शामिल हैं। भारत सरकार की तरफ से हर साल पद्म सम्मान दिया जाता है। इसके तहत तीन श्रेणी में सम्मान दिया जाता है- पद्मविभूषण, पद्मभूषण और पद्मश्री।

गूगल के सीईओ और अमेरिकी नागरिक सुंदर पिचाई को कारोबार की श्रेणी में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया है। सुंदर पिचाई उन 17 शख्सियतों में शामिल हैं, जिन्हें ये सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार से नवाजा गया है। साल 2015 में वे दुनिया की दिग्गज आईटी कंपनी गूगल के सीईओ बने। सुंदर पिचाई का वास्तविक नाम सुंदरराजन है और वह भारतीय मूल के हैं। साल 1972 में मदुरै (तमिलनाडु) में उनका जन्म हुआ था।