ब्रिटेन की महारानी की सम्मान सूची में सलमान रुश्दी समेत भारतीय मूल की कई हस्तियां शामिल

महारानी की ओर से दिया जाने वाला ‘कंपेनियन ऑफ ऑनर’ एक विशेष पुरस्कार है जो कला, विज्ञान, चिकित्सा आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल, जॉन मेजर और विख्यात भौतिकशास्त्री स्टीफन हॉकिंग को भी प्रदान किया जा चुका है।

ब्रिटेन की महारानी की सम्मान सूची में सलमान रुश्दी समेत भारतीय मूल की कई हस्तियां शामिल

बुकर पुरस्कार विजेता उपन्यास 'मिडनाइट्स चिल्ड्रेन' के लेखक सलमान रुश्दी के खाते में एक और उपलब्धि आई है। भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में जन्मे रुश्दी का नाम ब्रिटेन की महारानी के जन्मदिन के मौके पर सम्मानित किए जाने वाले भारतीय मूल के 40 से ज्यादा पेशेवर और सामुदायिक कार्य करने वाले लोगों की सूची में शीर्ष पर है।

सलमान रुश्दी को साहित्य जगत में योगदान के लिए ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की ओर से 'कंपेनियन ऑफ ऑनर' से नवाजा जाएगा। यह पुरस्कार कभी भी एक बार में 65 से अधिक लोगों को नहीं दिया जाता। महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के ब्रिटेन पर शासन के 70 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में बुधवार रात को यह सूची जारी की गई थी।

सलमान रुश्दी को साहित्य जगत में योगदान के लिए ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की ओर से 'कंपेनियन ऑफ ऑनर' से नवाजा जाएगा।

तीस साल से ज्यादा समय पहले अपने विवादास्पद उपन्यास 'द सैटनिक वर्सेज' के लिए ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामनेई का फतवा झेलने वाले रुश्दी (74) ने कहा कि इस सूची में शामिल होना सम्मान की बात है। महारानी की ओर से दिया जाने वाला ‘कंपेनियन ऑफ ऑनर’ एक विशेष पुरस्कार है जो कला, विज्ञान, चिकित्सा आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रदान किया जाता है। इससे पहले यह पुरस्कार ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल, जॉन मेजर और विख्यात भौतिकशास्त्री स्टीफन हॉकिंग को भी प्रदान किया जा चुका है।

14 उपन्यासों के लेखक रुश्दी को दिए जाने वाले प्रशस्ति पत्र पर लिखा है, 'बॉम्बे (अब मुंबई) में जन्मे, बाद में उन्होंने रग्बी स्कूल और किंग्स कॉलेज से पढ़ाई की जहां उन्होंने इतिहास का अध्ययन किया।' पत्र में लिखा गया, 'विज्ञापन की दुनिया से करियर की शुरुआत की और ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’ को दो बार (1993 और 2008) जनता के बेस्ट ऑफ बुकर्स घोषित किया गया। उन्हें साहित्य में सेवा के लिए 2007 में नाइटहुड की उपाधि दी गई। उन्होंने कथेतर साहित्य की भी रचना की, निबंध लिखे, सह संपादक रहे और मानवीय कार्य भी किए।'

रुश्दी के अलावा कमांडर ऑफ दि ऑर्डर ऑफ दि ब्रिटिश एंपायर (CBE) की सूची में केयर इंग्लैंड के प्रमुख अवनीश मित्तर गोयल शामिल हैं। वहीं ऑफिसर्स ऑफ दि ऑर्डर ऑफ दि ब्रिटिश एंपायर (OBEs) की लिस्ट में होटल व्यवसायी किशोरकांत भट्टेसा और लिवरपूल के हेट टीचर रोहित नायक का नाम शामिल किया गया है। इसके अलावा मेंबर्स ऑफ दि ऑर्डर ऑफ दि ब्रिटिश एंपायर (MBE) की सूची में काउंसिलर प्रणव भनोट और अमीत जोगिया समेत कई ब्रिटिश-भारतीय शामिल किए गए हैं। स्वास्थ्य के क्षेत्र में ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन ओरिजिन (BAPIO) के प्रोफेसर इंद्रनील चक्रवर्ती और ऑर्थोपेडिक सर्जन प्रोफेसर श्रीमती रोजगोपालन मुरली को भी MBE के लिए चुना गया है।