ब्रिटेन में उच्च शिक्षा के लिए भारतीय छात्रों ने आवेदन के ​पिछले रिकॉर्ड तोड़े

यूसीएएस इंटरनेशनल के एमडी डेस कटचे ने कहा कि इस साल भारतीय छात्रों के रिकॉर्ड स्तर पर आवेदन आए हैं जो दर्शाता है कि ब्रिटेन उच्च शिक्षा के लिए विश्व में एक बेहतर गंतव्य है। उन्होंने कहा कि नर्सिंग अध्ययन के लिए भारत से आवेदनों की संख्या पिछले वर्षों की तुलना में काफी अधिक है।

ब्रिटेन में उच्च शिक्षा के लिए भारतीय छात्रों ने आवेदन के ​पिछले रिकॉर्ड तोड़े
Photo by Aleks Marinkovic / Unsplash

सितंबर से ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में शुरू होने वाले स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए रिकॉर्ड संख्या में भारतीय छात्रों ने आवेदन किया है। ब्रिटेन में उच्च शिक्षा के लिए आवेदन की समय सीमा जनवरी थी। ब्रिटेन में उच्च शिक्षा के लिए साझा प्रवेश सर्विस यूएीएएस यानी द यूनिवर्सिटीज एंड कॉलेज एडमिशन सर्विसेज के माध्यम से पिछले साल की तुलना में 11 फीसदी ज्यादा भारतीय छात्रों ने आवेदन किया है।

आंकड़ों के मुताबिक साल 2022 में भारतीय आवेदकों की संख्या 8660 है। यह संख्या पिछले साल  2021 में 7,830 थी। यह तुलनात्मक तौर पर 11 फीसदी अधिक है। खास बात यह भी है कि महामारी से पहले यानी साल 2019 में मात्र 4,690 भारतीय छात्रों ने आवेदन किया था जो इस साल दोगुना हो गया है। हालांकि इस मामले में चीन अभी भी भारत से आगे है। चीनी छात्रों ने इस साल रिकॉर्ड 28,930 आवेदन किए हैं।

बता दें कि अधिकांश उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों के लिए 26 जनवरी तक यूसीएएस को आवेदन जमा करने की आवश्यकता होती है ताकि विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए छात्र की सीट सुनिश्चित हो सके। हालांकि आवेदन इस तिथि के बाद भी जमा किए जा सकते हैं। लेकिन यह सीट की उपलब्धता पर निर्भर होगा कि छात्र को प्रवेश मिलेगा या नहीं।