न्यूयॉर्क में सीनेटर बनने के लिए भारतीय मूल के इंजीनियर गौड़ा ने इसलिए की दावेदारी

राजीव गौडा डीसी-37 और सेंट्रल लेबर काउंसिल के पूर्व प्रतिनिधि रह चुके हैं। इसके साथ ही वह अलायंस ऑफ साउथ एशियन अमेरिकन लेबर के आजीवन सदस्य हैं। बताया गया है कि बतौर इंजीनियर राजीव गौड़ा 20 साल तक न्यूयॉर्क के डिजाइन और निर्माण विभाग में काम कर चुके हैं।

न्यूयॉर्क में सीनेटर बनने के लिए भारतीय मूल के इंजीनियर गौड़ा ने इसलिए की दावेदारी

अमेरिका में किसी तरह का भी चुनाव हो उसमें भारतीय मूल के लीडरों की भूमिका बढ़-चढ़कर होती है। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक राजीव गौड़ा ने ऐलान किया है कि इस साल सीनेट के लिए होने वाले चुनाव में वह डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से उम्मीदवार घोषित होंगे। न्यूयॉर्क राज्य के एक जिले अल्बानी में सीनेटर चुनने के लिए चुनाव इस साल जून के महीने में होंगे। राजीव गौड़ा का कहना है कि वह एक इंजीनियर हैं और उन्हें पता है कि क्षेत्र का विकास सही तरीके से किस तरह से करना है। उन्होंने कहा कि उनका इरादा भ्रष्टाचार के खिलाफ क्षेत्र की जनता की आवाज को बुलंद करना है।

राजीव का कहना है कि मुझे इस बात का गर्व है कि पिछली बार साल 2020 के चुनाव में उन्हें 5000 वोट मिले थे। यह चुनाव उस वक्त हुआ था जब कोरोना महामारी के दौरान जनता त्रस्त थी। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का भरोसा है कि इस बार मेरे जिले के लोग मेरा समर्थन करेंगे और सीनेटर के तौर पर मुझे चुनेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे समुदाय के लोगों की आकांक्षा ऐसे नए नेता की है जो राजनीतिक प्रतिष्ठानों को चुनौती दे सकें। ऐसा नेता जो अल्बानी को भ्रष्टाचार से मुक्त करे और सुधार के डेमोक्रेटिक आवाज को बुलंद करे। उन्होंने कहा कि जनता की इस आवाज को स्टेटेन आइसलैंड और ब्रुकलिन में बहुत दिनों से अनसुनी की जा रही है। उन्होंने कहा कि अगर वह चुन लिए जाते हैं तो करप्शन के खिलाफ इस आवाज को ताकत मिलेगी।