रानी कैकेयी ने माता सीता को 'मुंह दिखाई' में दिया था अयोध्या का कनक भवन

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह उस वक्त अयोध्या नगरी में सबसे भव्य महल था। इस महल को राजा दशरथ के विशेष आग्रह पर ऋषि विश्वकर्मा ने बनवाया था।

रानी कैकेयी ने माता सीता को 'मुंह दिखाई' में दिया था अयोध्या का कनक भवन

भारत के राज्य उत्तर प्रदेश की अयोध्या नगरी हिंदू धर्म के लिए हमेशा से विशेष स्थान रखती है। इस स्थल से मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम से जुड़ी तमाम कथाएं हैं। राम मंदिर के अलावा भी अयोध्या में कई ऐसे स्थल हैं, जिनसे हिंदू धर्म के करोड़ों लोगों की आस्था जुड़ी हुई हैं। हर जगह का अपना एक अलग महत्व है और अयोध्या आने वाले भक्त राम मंदिर के अलावा इन जगहों पर जाकर अपनी यात्रा को पूर्ण करते हैं।

अयोध्या का कनक भवन

आज आपको अयोध्या के 'कनक भवन' के बारे में बताएंगे, जिनसे भगवान श्रीराम और माता सीता से जुड़ी तमाम कथाएं प्रचलित हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जब भगवान श्रीराम माता सीता से विवाह करके अयोध्या लौटे थे, तब रानी कैकेयी ने सीता को मुंह दिखाई में यह भवन दिया था। उस वक्त अयोध्या ही नहीं बल्कि कोसों दूर तक इस जैसा कोई महल नहीं था।