रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि पर अमृतसर में बनेगा संग्रहालय

अमृतसर में श्री राम तीर्थ स्थल में बनने वाले इस विश्व प्रसिद्ध महर्षि वाल्मीकि पैनोरमा को स्थापित करने के लिए तकरीबन 25 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। मांग की जा रही थी कि रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि जी के इतिहास, जीवन और शिक्षाओं को दर्शाता अत्याधुनिक तकनीकों वाला एक संग्रहालय बनाया जाए।

रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि पर अमृतसर में बनेगा संग्रहालय

पंजाब के अमृतसर में रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि पर केंद्रित संग्रहालय जल्द बनाया जाएगा। पंजाब के तकनीकी शिक्षा मंत्री मचरनजीत सिंह चन्नी ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि  के जीवन इतिहास और शिक्षाओं को दर्शाता अत्याधुनिक महर्षि वाल्मीकि संग्रहालय  जल्द ही बना कर लोकार्पण कर दिया जाएगा।

रामतीर्थ मंदिर परिसर में वाल्मीकि मंदिर।

मान्यता है कि वाल्मीकि द्वारा 24 हजार छंदों वाली रामायण जिस स्थान पर लिखी गई, वह अमृतसर स्थित क्षेत्र है, जहां वर्तमान में श्री राम तीर्थ मंदिर बना हुआ है।

पंजाब के मंत्री चन्नी के अनुसार अमृतसर में श्री राम तीर्थ स्थल में बनने वाले इस विश्व प्रसिद्ध महर्षि वाल्मीकि पैनोरमा को स्थापित करने के लिए तकरीबन 25 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि वाल्मीकि भाईचारे की तरफ से लम्बे समय से यह मांग की जा रही थी कि रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि जी के इतिहास, जीवन और शिक्षाओं को दर्शाता अत्याधुनिक तकनीकों वाला एक संग्रहालय  बनाया जाए, जिससे विश्व को उनकी महान व्यक्तित्व और अन्य शिक्षाओं के बारे पता लग सके।

रामतीर्थ मंदिर परिसर और सरोवर। 

उन्होंने बताया कि इस संग्रहालय  के कांसेप्ट को मंज़ूर कर लिया गया है और अब जल्द ही इस संग्रहालय को बनाए जाने के लिए टेंडर जारी किए जाएंगे।