पंजाब में जन्मे जर्मन कवि व अनुवादक राजविंदर सिंह का बर्लिन में निधन

पंजाब के कपूरथला शहर में पैदा हुए राजविंदर सिंह ने अपने शुरुआती साल चंडीगढ़ और जम्मू में बिताए। जनवरी 1981 से वह बर्लिन में बस गए थे। अपने अंतिम दिनों के दौरान वे आधुनिक भारतीय भाषाओं में साहित्य को अनुवाद के माध्यम से व्यापक दुनिया तक पहुंचाने के लिए काम कर रहे थे।

पंजाब में जन्मे जर्मन कवि व अनुवादक राजविंदर सिंह का बर्लिन में निधन

पंजाब में जन्मे जर्मन लेखक और कविता के लिए चार बार पुरस्कार विजेता राजविंदर सिंह का बर्लिन के एक अस्पताल में निधन हो गया। 66 वर्षीय लेखक के परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटी है।

पंजाब के कपूरथला शहर में पैदा हुए राजविंदर सिंह ने अपने शुरुआती साल चंडीगढ़ और जम्मू में बिताए। 

पंजाब के कपूरथला शहर में पैदा हुए राजविंदर सिंह ने अपने शुरुआती साल चंडीगढ़ और जम्मू में बिताए। जनवरी 1981 से वह बर्लिन में बस गए थे। अपने अंतिम दिनों के दौरान वह आधुनिक भारतीय भाषाओं में साहित्य को अनुवाद के माध्यम से व्यापक दुनिया तक पहुंचाने के लिए काम कर रहे थे। वह ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता उपन्यासकार गुरदयाल सिंह के पंजाबी उपन्यास परसा का जर्मन में अनुवाद कर रहे थे।