प्रवासी भारतीयों के फिल्म निर्माण के हुनर को दुनिया के सामने लाएगा ICCR

प्रवासी भारतीयों को आईसीसीआर फिल्म निर्माण के क्षेत्र में हाथ आजमाने का मौका दे रहा है। अगर आपमें भी यह हुनर है तो आप भी आईसीसीआर और रूट्स टू रूट्स के अंतरराष्ट्रीय फिल्म निर्माण प्रतियोगिता का हिस्सा बन सकते हैं और सम्मानजनक पुरस्कार जीत सकते हैं।

प्रवासी भारतीयों के फिल्म निर्माण के हुनर को दुनिया के सामने लाएगा ICCR
प्रवासी भारतीयों को फिल्मकार बनने का मौका

कवीन्द्र रवीन्द्र नाथ टैगोर की जयंती के अवसर पर भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (ICCR) प्रवासी भारतीयों को फिल्म मेकर बनने का मौका दे रहा है। आईसीसीआर ने 'रूट्स टू रूट्स' एनजीओ के साथ मिलकर एक अंतरराष्ट्रीय फिल्म निर्माण प्रतियोगिता का आयोजन किया है, जिसमें वे विदेशी नागरिक भी हिस्सा ले पाएंगे जिन्होंने भारत में पढ़ाई की है या वर्तमान में पढ़ाई कर रहे हैं।आईसीसीआर का उद्देश्य प्रतियोगिता के माध्यम से प्रवासी भारतीयों और अपने विदेशी छात्रों के साथ संपर्क साधना है।

प्रवासी भारतीय, विदेशी स्टूडेंट्स को फिल्मकार बनने का मौका

प्रवासी भारतीयों, विदेशी छात्रों को अलग विषय पर बनाना होगा फिल्म

यह विषय आधारित प्रतियोगिता है, जिसमें प्रवासी भारतीयों और मौजूदा व पूर्व विदेशी छात्रों के लिए तीन अलग-अलग विषय निर्धारित किए गए हैं। प्रवासी भारतीयों को 'मेरा मूल, मेरे पूर्वज', 'भारत से दूर: मुझे सबसे ज्यादा किसकी कमी खली?' और 'वसुधैव कुटुम्बकम: दुनिया मेरा परिवार' विषयों पर वीडियो बनाना है। वही, विदेशी छात्रों को 'भारत में शिक्षा, भारत से शिक्षा', 'भारत: घर से दूर मेरा घर' और 'भारतीय संस्कृति की मेरे मस्तिष्क पर छाप' विषयों पर वीडियो बनाना है।

अगर आपमें भी फिल्म निर्माण का हुनर है तो फिर देरी किस बात की ? आप इनमें से किसी एक विषय पर तीन मिनट का वीडियो बनाकर फोटो पर दिए गए लिंक पर जाकर उसे अपलोड कर सकते हैं। प्रतियोगिता में एंट्री की आखिरी तारीख 25 जुलाई है।

पुरस्कार में किसे, क्या मिलेगा?

फिल्म निर्माण प्रतियोगिता में तीन श्रेणियां 18-25 वर्ष, 26-50 वर्ष और 50 वर्ष से ऊपर, तय की गई हैं। पुरस्कार इन्हीं श्रेणियों के आधार पर दिया जाएगा। हर उम्र और विषय की श्रेणी में तीन-तीन पुरस्कार दिए गए हैं। पहले विजेता को 500 डॉलर ( 38,678 रुपये), दूसरे विजेता को  300 डॉलर (23,207 रुपये) और तीसरे को  300 डॉलर (23,207 रुपये) पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे।