प्रवासी भारतीय राम्या को न्यूयॉर्क बार की समिति में खास जिम्मेदारी मिली

राम्या ने अपनी स्कूली शिक्षा ऊटी और दुबई में की है और बेंगलुरू के बिशप कॉटन विमेंस क्रिश्चियन लॉ कॉलेज से कानून की पढ़ाई की है। उन्होंने न्यूयॉर्क के फोर्डहैम यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल लॉ एंड ह्यूमन राइट्स में मास्टर्स किया। वह वर्तमान में न्यूयॉर्क के कार्डोजो लॉ स्कूल में पढ़ाती हैं।

प्रवासी भारतीय राम्या को न्यूयॉर्क बार की समिति में खास जिम्मेदारी मिली

भारत के शहर बेंगलुरू की 32 वर्षीय अधिवक्ता राम्या जवाहर कुडेकल्लू को न्यूयॉर्क सिटी बार की अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। राम्या इस चुनौती को स्वीकार करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं और वह सामुदायिक कठिनाइयों को दूर करने और सिस्टम में परिवर्तन सुनिश्चित करने के प्रति आश्वस्त हैं।

राम्या की भूमिका समिति के काम का नेतृत्व करना है। 

राम्या की भूमिका समिति के काम का नेतृत्व करना, चल रहे काम को जारी रखना और यह देखना है कि यह कैसे उत्पीड़ितों के मुद्दों में हस्तक्षेप किया जा सकता है। इसके साथ ही वह यह भी देखेंगी कि कानूनी विश्लेषण को प्रमुखता से कैसे रखा जा सकता है।