कतर में 'सनसनीखेज' है FIFA विश्व कप की तैयारी, भारतीयों में टिकटों की बिक्री शानदार

फुटबॉल प्रतिस्पर्धा का आयोजन आठ स्थानों पर होगा( चार सप्ताह तक चलने वाले विश्व कप के दौरान 280 से अधिक संगीत कलाकार प्रस्तुति देंगे। इस बार विश्व कप को लेकर भारतीयों में भी खासा उत्साह दिख रहा है। इसका एक कारण दोहा और भारत के बीच कम दूरी को भी बताया जा रहा है।

कतर में 'सनसनीखेज' है FIFA विश्व कप की तैयारी, भारतीयों में टिकटों की बिक्री शानदार

दोहा ने दुनिया के सबसे लोकप्रिय कार्यक्रमों में शुमार फीफा विश्व कप 2022 (FIFA World Cup 2022) की मेजबानी करने के लिए 12 साल पहले बोली लगाने का अधिकार जीता था। तब से ही यह देश इस आयोजन को एक बड़ी सफलता बनाने के लिए हर प्रयास कर रहा है। अब यह पहली बार है जब बोली में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद कोई अरब देश विश्व कप की मेजबानी करेगा।

चार सप्ताह तक चलने वाले विश्व कप के दौरान 280 से अधिक संगीत कलाकार प्रस्तुति देंगे।

आगामी 21 नवंबर से शुरू हो रही इस फुटबॉल प्रतिस्पर्धा का आयोजन आठ स्थानों पर होगा और दोहा इसकी तैयारियां करने में जुटा है। माना जा रहा है कि इस दौरान यहां फैन फेस्टिवल्स में किसी कार्निवाल जैसा माहौल होगा। इस दौरान म्यूजिक कंसर्ट और डीजे नाइट समेत अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किए जाने की तैयारी भी की जा रही है। चार सप्ताह तक चलने वाले विश्व कप के दौरान 280 से अधिक संगीत कलाकार प्रस्तुति देंगे।

इसके साथ ही फीफा विश्व कप के लिए दुनियाभर में टिकटों की भी अच्छी खासी मांग देखने को मिल रही है। भारत में क्रिकेट अधिक लोकप्रिय है लेकिन इस बार विश्व कप को लेकर भारतीयों में भी खासा उत्साह दिख रहा है। इसका एक कारण दोहा और भारत के बीच कम दूरी को भी बताया जा रहा है। वहीं, बीते कुछ वर्षों में भारत में भी फुटबॉल को लेकर लोगों की रुचि बढ़ी है।

फीफा विश्व कप के लिए दुनियाभर में टिकटों की भी अच्छी खासी मांग देखने को मिल रही है। 

कतर टूरिज्म के चीफ ऑपरेटिंग अधिकारी बर्थोल्ड ट्रेंकेल का कहना है कि भारतीयो में टिकटों की बिक्री बहुत शानदार रही है। उन्होंने कहा कि भले ही भारत फीफा विश्व कप के लिए क्वालीफाई न कर पाया हो लेकिन भारतीय लोग फुटबॉल से प्यार करते हैं। ट्रेंकेल ने आगे कहा कि अगर आप पिछले विश्व कप आयोजनों को देखें तो वो भारत से काफी दूर हुए थे जैसे कि रियो में। लेकिन कतर भारत से बहुत ज्यादा दूर नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था ने पिछले 20 साल में लंबा सफर तय किया है। अब भारत में सब फुटबॉल देखते हैं और सबकी एक पसंदीदा टीम है।

एक अप्रैल को जारी की गई थी आधिकारिक फुटबॉल
इस फीफा विश्व कप में इस्तेमाल होने वाली आधिकारिक फुटबॉल एक अप्रैल को जारी की गई थी। इसका नाम अल रिहला रखा गया है। अल रिहला अरबी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब यात्रा होता है। इसे कतर के ध्वज, वास्तुकला और नौकाओं से प्रेरणा लेकर बनाया गया है। यह पहली विश्व कप गेंद है जिसे बनाने में पर्यावरण का विशेष ध्यान रखा गया है। इसमें केवल ‘वाटर बेस्ड’ स्याही (पानी में घुलने वाले रंग) और ग्लू का इस्तेमाल किया गया है। इसे खेल उत्पाद बनाने वाली कंपनी एडिडास ने बनाया है।