प्रदीप रावत को चीन में राजदूत बनाकर क्या हासिल करना चाहता है भारत?

प्रदीप कुमार रावत को यह जिम्मेदारी पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों के बीच सीमा पर चल रहे गतिरोध के बीच दी गई है। दोनों पक्षों के बीच टकराव की स्थिति लंबे समय से बनी हुई है। प्रदीप कुमार की चीनी भाषा (मंदारिन) पर पकड़ बहुत अच्छी है।

प्रदीप रावत को चीन में राजदूत बनाकर क्या हासिल करना चाहता है भारत?

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत सरकार ने इस देश के लिए अपने अगले राजदूत की नियुक्ति की घोषणा कर दी है। वरिष्ठ राजनयिक प्रदीप कुमार रावत को चीन में भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया गया है। चीन से संबंधित मामलों के विशेषज्ञ माने जाने वाले प्रदीप कुमार निवर्तमान राजदूत विक्रम मिश्री की जगह लेंगे।

इस अहम नियुक्ति को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से सोमवार को एक बयान जारी किया गया था। इस बयान में मंत्रालय ने कहा कि, 'फिलहाल नीदरलैंड में भारत के राजदूत रावत को चीन गणतंत्र में भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया गया है। उनके शीघ्र ही नई जिम्मेदारी संभाल लेने की संभावना है।'