मोदी ने प्रवासियों का दिल जीता, कहा जापान के साथ हमारा रिश्ता बुद्ध, बौद्ध, ज्ञान और ध्यान का है

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज का भारत अपने अतीत को लेकर जितना गौरवान्वित है उतना ही टैक लेड, साइंस लेड, इनोवेशन लेड, टेलैंड लेड फ्यूचर को लेकर भी आशावान है। उन्होंने कहा कि जापान के साथ हमारा रिश्ता बुद्ध, बौद्ध, ज्ञान और ध्यान का है।

मोदी ने प्रवासियों का दिल जीता, कहा जापान के साथ हमारा रिश्ता बुद्ध, बौद्ध, ज्ञान और ध्यान का है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के अपने दौरे पर राजधानी टोक्यो में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। पीएम मोदी ने भारत और जापान के राजनयिक संबंधों के साथ-साथ भारत की कोविड के प्रति लड़ाई की सराहना की। भारतीय प्रवासियों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि भारत-जापान राजनयिक संबंधों के 70 साल होने जा रहे हैं। भारत और जापान स्वाभाविक भागीदार हैं। जापान ने भारत के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

मोदी ने कहा कि जब भी मैं जापान जाता हूं मैं आपका स्नेह महसूस करता हूं। 

मोदी ने कहा कि जब भी मैं जापान आता हूं, मैं आपका स्नेह महसूस करता हूं। आप में से कई लोग वर्षों से जापान में बसे हैं और जापानी संस्कृति को अपनाया है। लेकिन फिर भी आपका भारतीय संस्कृति और भाषा के प्रति समर्पण लगातार बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री के यह कहते ही वहां मौजूद भारतीय प्रवासियों ने 'भारत माता की जय' का नारा लगाना शुरू कर दिया।

उन्होंने कहा कि जापान के साथ हमारा रिश्ता बुद्ध, बौद्ध, ज्ञान और ध्यान का है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि दुनिया को हिंसा, अराजकता, आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियों से मानवता को बचाने के लिए बुद्ध द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज का भारत अपने अतीत को लेकर जितना गौरवान्वित है उतना ही टैक लेड, साइंस लेड, इनोवेशन लेड, टेलैंड लेड फ्यूचर को लेकर भी आशावान है। उन्होंने प्रवासियों को कहा कि मैं सभी से 'भारत चलो, भारत से जुड़ो' के अभियान में शामिल होने और इसे आगे बढ़ाने का आग्रह करता हूं।

मोदी ने आगे कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन वार्ता का नेतृत्व कर रहा है। 2070 तक नेट-जीरो बनने का लक्ष्य घोषित करने से लेकर अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन की शुरुआत तक भारत हरित भविष्य पर काम करने को लेकर गंभीर है। उन्होंने कहा कि भारत ने हमेशा से समाधान खोजा है। चाहे समस्या कितनी भी बड़ी क्यों न हो। मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान अनिश्चितता का माहौल था लेकिन उस स्थिति में भी भारत ने अपने करोड़ों नागरिकों को 'मेड इन इंडिया' टीकों की आपूर्ति की और इसे 100 से अधिक देशों में भी भेजा।

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी अपने जापानी समकक्ष फुमियो किशिदा के निमंत्रण पर क्वाड नेताओं के एक शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए दो दिवसीय यात्रा पर जापान में हैं। वह शिखर सम्मेलन से इतर क्वाड नेताओं के साथ अलग-अलग द्विपक्षीय बैठकें भी करेंगे। मोदी के अलावा 24 मई को टोक्यो में क्वाड शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापानी प्रधानमंत्री किशिदा और ऑस्ट्रेलियाई के नए नवेले प्रधानमंत्री एंथनी अल्बानी भी शामिल होंगे।