'उड़ानों और हवाई अड्डों पर भारतीय संगीत बजाने पर विचार करें एयरलाइंस'

आईसीसीआर ने इस मांग को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को एक पत्र सौंपा था। इस पत्र में कहा गया था, '... भारत में संचालित होने वाले विमानों और विभिन्न हवाई अड्डों पर भारतीय शास्त्रीय या हल्का स्वर और वाद्य संगीत बजाना सभी भारतीय एयरलाइनों के लिए अनिवार्य कर दिया जाए।'

'उड़ानों और हवाई अड्डों पर भारतीय संगीत बजाने पर विचार करें एयरलाइंस'
Photo by Praveen Thirumurugan / Unsplash

भारत सरकार के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सभी एयरलाइंस और हवाई अड्डों से कहा कि वे अपनी उड़ानों और टर्मिनल परिसर में भारतीय संगीत बजाने पर विचार करें। कुछ दिन पहले यह मांग भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (ICCR) और संगीतकारों ने सरकार के सामने उठाई थी और नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से अनुरोध किया था कि वह भारतीय एयरलाइंस की ओर से संचालित उड़ानों में भारतीय संगीत को बढ़ावा दें।

इस मसले पर मंत्रालय ने हाल ही में सभी एयरलाइंस और हवाई अड्डों को एक पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि दुनिया भर में अधिकतर एयरलाइंस की ओर से बजाया जाने वाला संगीत उस देश के लिए सबसे अच्छा होता है, जिससे वह एयरलाइन संबंधित है। उदाहरण के लिए अमेरिकी एयरलाइन में जैज, ऑस्ट्रियाई एयरलाइन में मोजार्ट और मध्य पूर्व की एयरलाइन में अरब संगीत बजाया जाता है। ऐसा ही कुछ भारतीय एयरलाइंस को भी करना चाहिए।