फॉरेन एक्सचेंज शुल्क के रूप में 2020 में भारत को 26,300 करोड़ रुपये का नुकसान

पिछले पांच वर्षों में, पैसे भेजने के लिए विनिमय दर मार्जिन के रूप में चुकाई जाने वाली राशि 4200 करोड़ रुपये से बढ़कर 7900 करोड़ रुपये हो गई है।

फॉरेन एक्सचेंज शुल्क के रूप में 2020 में भारत को 26,300 करोड़ रुपये का नुकसान
Photo by Firmbee.com / Unsplash

साल 2020 में कोरोना वायरस महामारी के बावजूद विदेश पैसे भेजने वाले भारतीय नागरिकों को फॉरेन एक्सचेंज शुल्क के रूप में 26,300 रुपये चुकाने पड़े हैं। यह जानकारी गुरुवार को सामने आई एक रिपोर्ट में दी गई। एक प्रौद्योगिकी कंपनी 'वाइज' की ओर से किए गए इस अध्ययन में पाया गया है कि इस राशि में से 9700 करोड़ रुपये केवल विनिमय दर के रूप में वसूले गए हैं।

A pile of 20, 100 Euro (EUR), and 20, 100 Dollar (USD) banknotes.
विदेश में पैसे भेजने के लिए भारतीयों को सालाना आधार पर जो शुल्क चुकाना पड़ता है उसमें साल 2016 के मुकाबले खासा इजाफा हुआ है। Photo by Ibrahim Boran / Unsplash

विदेश में पैसे भेजने के लिए भारतीयों को सालाना आधार पर जो शुल्क चुकाना पड़ता है, उसमें साल 2016 के मुकाबले खासा इजाफा हुआ है। साल 2016 में भारतीयों ने इसके लिए 18,700 करोड़ चुकाए थे। विदेशों में पैसा भेजने के लिए लेनदेन शुल्क पर भारतीयों द्वारा खर्च की गई कुल राशि पिछले पांच वर्षों में कम हुई है। लेकिन, विनिमय दर मार्जिन के लिए भुगतान शुल्क बढ़ रहा है।