उच्च शिक्षा को गुणवान बनाने के लिए प्रवासी समुदाय भी भारत में सहायक बनेगा

भारत के शिक्षा मंत्रालय और AICTE ने विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वयंसेवी कार्यक्रम के तहत स्वयंसेवकों की एक मजबूत टीम बनाना है जो अकादमिक, प्रशिक्षण और बुनियादी ढांचे के समर्थन में योगदान देकर देश की उच्च शिक्षा प्रणाली को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकें।

उच्च शिक्षा को गुणवान बनाने के लिए प्रवासी समुदाय भी भारत में सहायक बनेगा

भारत सरकार ने देश में उच्च शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए प्रवासी समुदाय की भी मदद लेने का फैसला किया है। सरकार विशेषज्ञों का एक पूल बनाएगी, जिससे उच्च शिक्षा की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके और वह अधिक पेशेवर हो सके।

शिक्षा मंत्रालय और AICTE ने विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वयंसेवी कार्यक्रम के लिए पंजीकरण प्रक्रिया शुरू कर दी है।

उच्च शिक्षा के लिए पूल बनाने की दिशा में All India Council for Technical Education (AICTE)  ने कार्य शुरू कर दिया है। AICTE ने विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वयंसेवी कार्यक्रम के लिए रजिस्ट्रेशन को ओपन कर दिया है जिसका उद्देश्य उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए शैक्षणिक, प्रशिक्षण और बुनियादी ढांचे का समर्थन करने के लिए स्वयंसेवकों का एक पूल बनाना है।