2020 में विदेशों में हुआ 51000 से अधिक भारतीय बच्चों का जन्म, रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 में 170 देशों में 51,089 भारतीय बच्चों का जन्म विदेशों में हुआ। इनमें से 16,469 भारतीय बच्चों का जन्म यूएई में हुआ था। वहीं सऊदी अरब में जन्म लेने वाले भारतीय बच्चों की संख्या 6074 रही थी।

2020 में विदेशों में हुआ 51000 से अधिक भारतीय बच्चों का जन्म, रिपोर्ट
Photo by freestocks / Unsplash

भारत के रजिस्ट्रार जनरल (RGI) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार साल 2020 में 170 से अधिक देशों में 51,000 से अधिक भारतीय बच्चों का जन्म हुआ था। वहीं लगभग 10,817 भारतीयों की विदेशों में मौत हो गई। रिपोर्ट के अनुसार 2020 में विदेशों में जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या सबसे ज्यादा संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में रही।

Parent and child
रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 में 170 देशों में 51,089 भारतीय बच्चों का जन्म विदेशों में हुआ। Photo by Guillaume de Germain / Unsplash

रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 में 170 देशों में 51,089 भारतीय बच्चों का जन्म विदेशों में हुआ। इनमें से 16,469 भारतीय बच्चों का जन्म यूएई में हुआ था। वहीं सऊदी अरब में जन्म लेने वाले भारतीय बच्चों की संख्या 6074 रही थी। इसके अलावा अन्य देशों में जन्म लेने वाले भारतीय बच्चों की संख्या कुवैत में 4202, कतर में 3936, इटली में 2352, ऑस्ट्रेलिया में 2316, ओमान में 2177, बहरीन में 1567, जर्मनी में 1400 और सिंगापुर में 1358 रही थी। वहीं, स्पेन में 768, दक्षिण अफ्रीका में 620, ब्रिटेन में 578, स्वीडन में 388, जांबिया में 156, अमेरिका में 37 और पाकिस्तान में चार बच्चों का जन्म हुआ था।

सऊदी अरब में 3754 तो पाकिस्तान में छह भारतीयों की मौत

वहीं रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 में विदेशों में जान गंवाने वाले कुल 10,817 भारतीयों में से 3754 की मौत सऊदी अरब में हुई थी। इसके अलावा यूएई में 2454, कुवैत में 1279, ओमान में 630, कतर में 386, बहरीन में 312, अमेरिका में 254, इटली में 216, सिंगापुर में 166, ब्रिटेन में 19 और पाकिस्तान में छह भारतीयों की मौत हुई।

जान गंवाने वाले 45 फीसदी को नहीं मिली कोई चिकित्सा मदद

साल 2020 में देश में जान गंवाने वाले 82 लाख नागरिकों में 45 फीसदी को कोई भी चिकित्सा देखभाल नहीं मिली थी। वहीं 1.3 फीसदी नागरिक ही अपने आखिरी समय में एलोपैथिक डॉक्टरों की निगरानी में थे।