ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए सिंगापुर ने उठाया कौन सा बड़ा कदम

मंत्रालय ने ओमिक्रॉन पर टीके के प्रभाव को लेकर कहा कि इस पर अध्ययन किए जा रहे हैं लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि मौजूदा टीके इस वैरिएंट के खिलाफ भी असरदार रहेंगे। इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन लोगों से जल्द टीकाकरण करवाने की अपील की जिन्होंने अभी तक इसकी खुराक नहीं ली है।

ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए सिंगापुर ने उठाया कौन सा बड़ा कदम

कोरोना वायरस के नए और अधिक संक्रामक माने जा रहे ओमिक्रॉन वैरिएंट को देखते हुए सिंगापुर की सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने 'एस पास' और कार्य वीजा धारकों के वैक्सीनेटेड ट्रैवेल लेन (VTL) के माध्यम से देश में प्रवेश के लिए आने वाले नए आवेदनों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

इस लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को कहा था कि इन आंकड़ों से पता चलता है कि कोविड-19 संक्रमण से उबर चुके लोगों में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट से फिर से संक्रमित होने का खतरा अधिक है। Photo by Jeremy Bezanger / Unsplash

यह निर्णय जनशक्ति मंत्रालय (Ministry of Manpower) ने शनिवार को कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट को देखते लिया है। उसके अनुसार निर्माण, शिपयार्ड, रसायन और दवा क्षेत्र के नियोक्ता अपने कर्मचारियों के लिए वीटीएल के जरिए देश में प्रवेश करने के लिए आवेदन नहीं कर पाएंगे।