अब क्षेत्रीय भाषाओं में कर सकेंगे लॉ कोर्स, ताकि सहज हो अदालत

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने पिछले साल 19 तकनीकी कॉलेजों को क्षेत्रीय भाषाओं में चुनिंदा इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाने की अनुमति दी थी।

अब क्षेत्रीय भाषाओं में कर सकेंगे लॉ कोर्स, ताकि सहज हो अदालत
Photo by Tingey Injury Law Firm / Unsplash

भारतीय भाषाओं में कई पाठ्यक्रम शुरू करने के बाद भारत सरकार अब देश भर में लॉ कॉलेजों के विकल्प का विस्तार करने की योजना बना रही है। इस मसले पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने कुछ उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ इस मामले पर चर्चा शुरू कर दी है जो कानूनी पढ़ाई की पेशकश कर रहे हैं।

पिछले साल एआईसीटीई ने 19 तकनीकी कॉलेजों को क्षेत्रीय भाषाओं में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम की अनुमति दी थी।

पाठ्यक्रम अधिकारियों ने कहा कि इस पर काम किया जा रहा है, जो भारतीय क्षेत्रीय भाषाओं को शिक्षा के माध्यम के रूप में पेश करने का प्रस्ताव करता है। पिछले साल अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने 19 तकनीकी कॉलेजों को क्षेत्रीय भाषाओं में चुनिंदा इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाने की अनुमति दी थी। इनमें से 10 ने हिंदी को चुना और बाकी ने मराठी, बंगाली, तमिल, तेलुगु और कन्नड़ का विकल्प दिया।