भारतीय मूल के छात्र ने बनाया ऐसा ऐप, स्कूली बस के इंतजार का झंझट खत्म

आदित्य के इस ‘ट्रैकी’ ऐप के साथ ही 20 छात्र-छात्राओं द्वारा तैयार किए गए 8 अलग-अलग ऐप ने प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। सभी प्रतियोगी चार जिलों के विभिन्न माध्यमिक और उच्च विद्यालय से जुड़े हैं। उसे ‘ट्रैकी’ ऐप बनाने के लिए कांग्रेशनल ऐप चैलेंज-2021 के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

भारतीय मूल के छात्र ने बनाया ऐसा ऐप, स्कूली बस के इंतजार का झंझट खत्म

आपको पता होगा कि सर्दियों के मौसम में जब खूब ठंड पड़ती है और उस वक्त घर से बाहर निकलने का मन नहीं करता है। ऐसे में इस मौसम के दौरान स्कूल जाने के लिए घर से बाहर बस का इंतजार करना किसी जंग लड़ने से कम नहीं है। लेकिन अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के माध्यमिक स्कूल में पढ़ने वाले आदित्य चौधरी ने एक ऐसा ऐप बनाया है जिसके माध्यम से अब किसी को घर के बाहर इंतजार करने की जरूरत ही नहीं रहेगी। यह ऐप छात्रों और अभिभावकों को स्कूल बस के घर के सामने पहुंचने का बिल्कुल सही समय बताएगी।

अमेरिका के न्यूजर्सी में रहने वाले भारतीय मूल के आदित्य चौधरी को ‘ट्रैकी’ ऐप बनाने के लिए कांग्रेशनल ऐप चैलेंज-2021 के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। आदित्य मनालपन-इंग्लिशटाउन माध्यमिक स्कूल में पढ़ाई करते हैं। कांग्रेस के सदस्य क्रिस्टोफर स्मिथ ने आदित्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह ऐप बुद्धिमानी पूर्वक और रचनात्मकता के साथ तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि इसे अभिभावकों और छात्रों को बड़ी सहायता मिलेगी और उन्हें घर के बाहर स्कूल बस के आने को लेकर व्यर्थ के इंतजार करने की झंझट से मुक्ति मिलेगी। इससे उनके समय की भी बचत होगी।