एनआरआई 'दूल्हों' ने तबाह किया जीवन, सरकार कुछ करे तो 'बनी रहे जोड़ी'

भारत में 40 हजार से अधिक ऐसी युवतियां हैं जिनकी जिंदगी एनआरआई दूल्हे से शादी के बाद बर्बाद हो चुकी है। इनका भविष्य अनिश्चित और असुरक्षित है। कारण यह है कि युवती ने जिस एनआरआई से शादी की वह बाद में भारत छोड़कर चला गया।

एनआरआई 'दूल्हों' ने तबाह किया जीवन, सरकार कुछ करे तो 'बनी रहे जोड़ी'

‘मेरे एनआरआई पति ने मुझे तब छोड़ दिया जब मैं दो महीने की गर्भवती थी। इस सदमे की वजह से मेरा गर्भपात हो गया। ससुरालवालों ने मुझे घर से निकाल दिया। मेरी नौकरी भी चली गई। मैं हर तरह से तबाह हो गई, लेकिन मेरी जिंदगी बर्बाद करने वाले एनआरआई पति को कोई सजा नहीं मिली। क्योंकि इसके लिए कोई कानून नहीं है कि उसे उत्तरदायी ठहराया जा सके।’

अपनी यह दुखद कहानी बताते हुए ‘चेंज डॉट ओआरजी’ वेबसाइट पर एक महिला ने याचिका डाली है। महिला ने भारत सरकार से गुहार लगाई है कि एनआरआई से विवाह के पंजीकरण का कानून पास करें और इसकी फास्ट ट्रैक अदालत मे सुनवाई हो। महिला का कहना है कि वह अकेली ऐसी महिला नहीं है जो इस प्रकार की यातना झेल रही हैं। भारत में 40 हजार से अधिक ऐसी युवतियां हैं जिनकी जिंदगी एनआरआई दूल्हे से शादी के बाद बर्बाद हो चुकी है।