कनाडा सीमा से अमेरिका घुसने वाले अवैध भारतीय आप्रवासियों की संख्या बढ़ी

ऐसा करने वाले केवल भारतीय ही नहीं हैं। अधिकारियों के अनुसार एशिया के अन्य देशों के नागरिक भी बड़ी संख्या में उत्तरी सीमा से अमेरिका में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं। ये लोग इसके लिए अच्छी-खासी रकम चुकाने के लिए भी तैयार हैं।

कनाडा सीमा से अमेरिका घुसने वाले अवैध भारतीय आप्रवासियों की संख्या बढ़ी
Photo by REVOLT / Unsplash

अमेरिका में इस समय कनाडा के साथ सीमा से प्रवेश करने वाले अवैध आप्रवासियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इनमें खास तौर पर भारतीय प्रवासी शामिल हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार यह काम एक उबर स्मगलिंग रिंग के जरिए किया जा रहा है। अमेरिकी अधिकारियों के लिए यह मामला बड़ी चिंता का विषय बन गया है।

अमेरिका-कनाडा सीमा के जरिए अवैध रूप से दाखिल होने वाले लोगों की कुल संख्या का करीब 13 फीसदी है। Photo: today.yougov.com

यह मामला पिछले महीने राजिंदर पाल सिंह की गिरफ्तारी के बाद सामने आया था। कैलिफोर्निया के निवासी सिंह भारत से अवैध आप्रवासियों को उत्तरी सीमा से सिएटल इलाके में लाया था। इसके लिए उसने उबर की गाड़ियों का इस्तेमाल किया। जांच में 90 से अधिक उबर ट्रिप्स के सबूत मिले हैं जो केवल एक अकाउंट से थीं। अधिकारियों के अनुसार इससे स्मगलिंग के पैटर्न का पता चला, जो सिंह से जुड़े हुए हैं। अदालती दस्तावेजों के मुताबिक सिंह के संगठन के कुल 17 खातों का पता लगाया है।

राजिंदर पाल सिंह की गिरफ्तारी के बाद एशिया और खास तौर पर भारत से अवैध आप्रवासियों की बढ़ती संख्या का मुद्दा सामने आया था। इससे पहले अप्रैल में कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन (CBP) के एजेंट्स ने उत्तरी सीमा पर 1197 भारतीयों को पकड़ा था।  यह अमेरिका-कनाडा सीमा के जरिए अवैध रूप से दाखिल होने वाले लोगों की कुल संख्या का करीब 13 फीसदी है।

हालांकि ऐसा करने वाले केवल भारतीय ही नहीं हैं। अधिकारियों के अनुसार एशिया के अन्य देशों के नागरिक भी बड़ी संख्या में उत्तरी सीमा से अमेरिका में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं। ये लोग इसके लिए अच्छी-खासी रकम चुकाने के लिए भी तैयार हैं। सिंह की गिरफ्तारी को लेकर हलफनामा दाखिल करने वाले होमलैंड सिक्योरिटी इन्वेस्टिगेशन के एजेंट डेविड ए स्पित्जर का कहना है कि ये लोग 30 से 70 हजार डॉलर तक का भुगतान कर रहे हैं। इसमें उनकी यात्रा की व्यवस्था की जाती है और कई बार फर्जी दस्तावेज भी उपलब्ध कराए जाते हैं।