मणिबेन सीता: दक्षिण अफ्रीका की रंगभेद विरोधी नायिका

मणिबेन ने अपना पूरा जीवन रंगभेद से लड़ने के लिए समर्पित कर दिया। वह अपने पिता नाना सीता से प्रेरित थीं, जो महात्मा गांधी के प्रबल अनुयायी थे।

मणिबेन सीता: दक्षिण अफ्रीका की रंगभेद विरोधी नायिका

भारतीय मूल की रंगभेद विरोधी एक्टिविस्ट मणिबेन सीता का 7 जुलाई को दक्षिण अफ्रीका में कोविड के कारण निधन हो गया। 94 वर्षीय सीता को पिछले सप्ताह प्रिटोरिया में वायरस से संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मणिबेन ने अपना पूरा जीवन रंगभेद से लड़ने के लिए समर्पित कर दिया। वह अपने पिता नाना सीता से प्रेरित थीं, जो महात्मा गांधी के प्रबल अनुयायी थे।

रंगभेद संस्थागत नस्लीय अलगाव का एक सिस्टम था, जो दक्षिण अफ्रीका और दक्षिण-पश्चिम अफ्रीका (अब नामीबिया) में 1948 से 1990 के दशक तक प्रचलित था।

उन्होंने कहा था, "आज की युवा भारतीय महिलाओं के पास समाज में व्याप्त बुराइयों के खिलाफ कार्रवाई करने के अधिक मौके हैं। इस कार्रवाई को काफी अधिक सख्ती से करना चाहिए।"

मणिबेन सीता के 90वे जन्मदिवस पर उनके साथ एक प्रशंसक। (साभार: Facebook/Zakeeya Patel)

दक्षिण अफ्रीका में पूर्व भारतीय उच्चायुक्त रुचिका कंबोज ने 2017 में मणिबेन के साथ अपनी मुलाकात को याद करते हुए कहा, "उन्होंने भारत सरकार से दक्षिण अफ्रीका के सभी स्कूलों में महात्मा गांधी की आत्मकथा उपलब्ध कराने के लिए कहा ताकि स्थानीय भारतीय और सभी दक्षिण अफ्रीकी हमेशा उस अविश्वसनीय विरासत को याद रख सकें जो उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में छोड़ी थी।"